मध्यप्रदेश में महंगी बिजली को लेकर क्या बोले ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर 

उन्होंने पिछली कमलनाथ शासनकाल में उजागर हुए सौभाग्य योजना के घोटाले में जानकारी लेकर कार्रवाई करने की बात कही है। तोमर ने कहा कि सौभाग्य योजना (Sobhagya Yojna) के घोटाले की पूरी जानकारी लूंगा।

ऊर्जा मंत्री

जबलपुर संदीप कुमार। हाल ही मे हुई कैबिनेट बैठक (Cabinet meeting) में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) के निर्देश के बाद अब हर मंत्री अपने विभाग की रेटिंग बढ़ाने मे जुट गया है।ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के समर्थक और शिवराज सरकार (Shivraj Government) में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर भोपाल (Bhopal) के बाद देर रात जबलपुर (Jabalpur) का दौरा करने पहुंचे।

यहां तोमर ने बरगी बांध स्थित जल विद्युत प्लांट और ईस्ट डिस्कॉम के कॉल सेंटर का निरीक्षण किया है।इस दौरान जब उनसे महंगी बिजली को लेकर सवाल किया गया तो ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर  (Pradyuman Singh Tomar) ने कहा कि बिजली महंगी होगी या नहीं इसपर CM शिवराज से चर्चा के बाद ही बयान दूंगा।

उन्होंने पिछली कमलनाथ शासनकाल में उजागर हुए सौभाग्य योजना के घोटाले में जानकारी लेकर कार्रवाई करने की बात कही है। तोमर ने कहा कि सौभाग्य योजना (Sobhagya Yojna) के घोटाले की पूरी जानकारी लूंगा। समीक्षा में बिजली कंपनियों (Power Companies) के घाटे से उबारने के प्रयास होंगे। इतना ही नही आगे तोमर ने कहा कि अभी ऊर्जा विभाग के हर क्षेत्र की समीक्षा कर रहा हूं। लगातार विद्युत उत्पादन इकाइयों को देख रहा हूं। वहीं शिकायत मिलने पर तुरंत जांच के निर्देश दे रहा हूं।

वही इंदिरा गृह ज्योति योजना बंद करने के सवाल पर मंत्री प्रद्युम्न तोमर ने कहा कि वह किसी भी जनहितैषी योजना को बंद नहीं करेंगे।  योजना को बंद करने की सरकार की कोई मंशा नहीं है। प्रदेश में सबसे महंगी बिजली देने के सवाल पर कहा कि विभाग की समीक्षा कर लूं फिर इस मुद्दे पर बात करूंगा।इस दौरान मंत्री ने अनियमिताओं की जांच के निर्देश दिए। वहीं दोषियों पर आवश्यक कार्रवाई के निर्देश मंत्री ने दिए हैं।

कमलनाथ और कांग्रेस पर जमकर साधा निशाना

ऊर्जा मंत्री प्रद्युमन सिंह तोमर ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamal Nath) पर हमला बोलते हुए कहा कि कांग्रेस की हाईकमान ने विवाह के दौरान नौजवान दूल्हा दिखाकर 74 साल की बुजुर्ग को वरमाला पहनवा दिया।इतना ही नही ऊर्जा मंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ को कांग्रेस के सीईओ(CEO) की भी उपाधि दे डाली।ऊर्जा मंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश की जनता ने सोचा था कि शिवराज सरकार के 15 साल कार्यकाल को देखते हुए कांग्रेस कुछ अच्छा करेगी और कोई नया चेहरा होगा पर ऐसा हुआ नही, उल्टा कांग्रेस हाइकमान ने नौजवान बता कर 74 साल के बुजुर्ग को प्रदेश की डोर थमा दी। कांग्रेस प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ ने उस तरह से काम किया जिस तरह से अंग्रेज देश मे राज करने आई थी उन्होंने देश को लूटा और धन सत्ता लेकर वापस चले गए ठीक उसी तरह से कांग्रेस कमेटी के सीईओ कमलनाथ ने किया।