कलेक्टर-कमिश्रर से बोले CM शिवराज- काम के आधार पर होगी रेटिंग, एजेंडे पर फोकस

सीएम ने कहा कि सबसे पहले यह स्पष्ट कर दूं कि कांफ्रेंस कोई कर्मकांड नहीं है। सुशासन का मतलब स्पष्ट समझे, बिना लिए दिए समय पर जनता को शासन द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं का लाभ मिलना चाहिए।

Shivraj Singh chouhan

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। आज मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) की अध्यक्षता की अध्यक्षता में  कलेक्टर्स-कमिश्नर्स (Collectors-Commissioners), पुलिस अधीक्षक और पुलिस महानिरीक्षक (SP And IG) की वीडियो कान्फ्रेंसिंग (Video Conferencing) के माध्यम से बैठक होना है। बैठक के पहले मुख्यमंत्री ने सभी अधिकारियों से संवाद किया और दो टूक शब्दों में कहा कि काम के आधार पर रेटिंग होगी। फोकस एजेंडे के तहत काम करना होगा। लेन-देन का यहां काम नही चलेगा, यह सरकार अलग है।

सीएम ने कहा कि सबसे पहले यह स्पष्ट कर दूं कि कांफ्रेंस कोई कर्मकांड नहीं है। सुशासन का मतलब स्पष्ट समझे, बिना लिए दिए समय पर जनता को शासन द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं का लाभ मिलना चाहिए।शिवराज इतने पर ही नही रुके और आगे कहा कि एक बात और साफ कर दूं कि यह अलग सरकार है। यहां पोस्टिंग का आधार मेरिट होगा, पिछली सरकार की तरह नहीं कि लिए-दिए और पोस्टिंग दे दी जाए । हर माह आपको हम एजेंडा देंगे जिस पर आपको काम करना होगा यह एजेंडा कई महिनों तक चल सकता है ।

फोकस एजेंडे पर करना होगा काम

मुख्यमंत्री इतने पर भी नही रुके और आगे कहा कि  हमे फोकस एजेंडे पर काम करना है। रूटीन गवर्नेंस प्रभावित ना हो ।रोजमर्रा के काम ना रुके लोग परेशान ना हो, हर विभाग के काम जैसे चल रहे हैं वैसे ही चलते रहना चाहिए।आप कुर्सी पर बैठे हुए हैं, आप टेबल के उस पार व्यक्ति के बारे में सोचिए ।आप यह समझें कि आपके हाथ में आवेदन होता तो कैसा होता। कई बार काम करने के तरीके निकालने होते हैं, लोगों की भलाई के लिए काम करना है ।

आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश  को जमीन पर उतारना है

सीएम ने कहा कि एक चीज आप स्पष्ट समझ जाएं रूटीन गवर्नेंस (Routine Governance) और फोकस एजेंडा, इसके लिए पूरी ताकत से काम करना है मुझे मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के कल्याण विकास भलाई के अलावा कुछ नहीं दिखाई दे रहा है। आपको शासन की गतिविधियों को जमीन पर उतारना है । आत्मनिर्भर मध्य प्रदेश (Aatmanirbhar Madhy Pradesh) को जमीन पर उतारना है यह समय से हमको पूरा करना है।

अच्छे पर सराहना, गलती पर हटाना
शिवराज ने कहा कि आप शासन के प्रतिनिधि हैं, दूसरे शब्दों में कहें तो आप मुख्यमंत्री के प्रतिनिधि हैं। मुख्यमंत्री के दिलों में जैसी तड़प है वैसी तड़प आपके दिलों में होना चाहिए ।मैं अपना सर्वश्रेष्ठ दे रहा हूं, आप भी अपना सर्वश्रेष्ठ दें। मेरा किसी से भी राग द्वेष नहीं है, जो अच्छा करेगा उसे सराहा जाएगा, लेकिन जिस ने गलती की उसे हटाने में देर नहीं होगी।

अपनी भूमिका को समझें अधिकारी

लोकतंत्र में सबसे ज्यादा जरूरी है संवाद आपको कम्युनिकेशन (Communication) जनता से करना होगा आप यह न सोचे कि आप अधिकारी हैं तो जनता से दूर हो जाए। कलेक्टर , कमिश्नर , एसपी और आईजी सब अपनी भूमिका समझे जनता से निरंतर संवाद रखें । इसलिए लगातार जनता जनप्रतिनिधि से कम्युनिकेशन बनाए रखें । मैं एक बार और स्पष्ट कर दूं कि यह भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सरकार है, सबसे पहले जनता का सम्मान हो जनता का कल्याण हो।

काम के आधार पर होगी रेटिंग 

शिवराज ने कहा कि काम के आधार पर रेटिंग होगी । हम सीएम डैशबोर्ड शुरू कर रहे हैं। मैंने यह भी तय किया है कि जो अच्छा काम करेगा उसे सराहा जाएगा । मैंने जिलों में भी तय किया है कि कौन सा जिला अच्छा परफॉर्म कर रहा है इसकी रेटिंग होगी।परफॉर्मेंस बेस्ड हमारी सरकार होगी। आपको मौका मिला है जनता की सेवा करने का, एजेंडा के साथ काम करें रूटीन गवर्नेंस को जनता की प्राथमिकता समझे।

जो जिम्मेदार होगा उस पर कार्रवाई की जाए
सीएम शिवराज ने कहा कि मंगलवार को मैंने समाधान ऑनलाइन (Online) दोबारा शुरू की, वहां देखा तो कुछ अधिकारियों ने लिपिक पर कार्यवाही कर दी, यह नहीं चलेगा जिसकी जिम्मेदारी वो देखे, जो जिम्मेदार होगा उस पर कार्रवाई की जाए। यह जो मैं कह रहा हूं वह मेरे दिल में है मैं दिल से बात कर रहा हूं जमीन पर सुशासन को उतारने के लिए यह कॉन्फ्रेंस प्रभावी होगी और इसी कॉन्फ्रेंस के आधार पर मैं आगे भी आप से निरंतर संवाद करता रहूंगा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here