MP School : शिक्षकों को स्कूल शिक्षा विभाग के सख्त निर्देश- परीक्षा देना अनिवार्य

स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा जिला शिक्षा अधिकारियों (District Education Officers) को जारी पत्र में कहा गया है कि इस परीक्षा में निलंबित  (suspended) एवं अवकाश पर रहने वाले शिक्षकों को भी अनिवार्य रुप से शामिल होना होगा।

MP board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) के निर्देश के अनुसार 24 जनवरी को दोबारा से शिक्षकों की दक्षता परीक्षा (Efficiency test) ली जाएगी। इस संबंध में लोक शिक्षण संचालनालय (Directorate of public education-DPI) ने आदेश जारी कर दिए है। इसमें सभी शिक्षकों (Teachers) को अनिवार्य रुप से शामिल होने को कहा गया है, वरना कार्रवाई की जाएगी। केवल कोरोना या किसी गंभीर बीमारी से पीड़ित शिक्षकों को छूट दी गई है।बता दे कि 2019 में हुई दक्षता परीक्षा में 16 शिक्षकों को अनिवार्य रूप से सेवानिवृत्ति (Retirement) दी जा चुकी है।

यह भी पढ़े… MP News : स्कूल शिक्षा विभाग का अल्टीमेटम, शिक्षकों में हड़कंप

दरअसल, पिछले सत्र में सरकारी स्कूलों (Government Schools) की 10वीं व 12वीं (10th and 12th) की बोर्ड परीक्षा (MP Board Exam) का रिजल्ट 40 फीसदी से कम रहा था, जिसके चलते स्कूल शिक्षा विभाग (School Education Department) ने नाराजगी जताई थी और सुधार के चलते शिक्षकों की दक्षता परीक्षा लेने का फैसला किया।इसके तहत पहली चरण की 7,910 शिक्षकों की परीक्षा 3 और 4 जनवरी को ली गई थी, जिसमें करीब 6 हजार शिक्षक शामिल हुए थे।

इसी के चलते विभाग द्वारा शिक्षकों को एक और मौका दिया जा रहा है और दूसरे चरण की परीक्षा रविवार 24 जनवरी को आयोजित की जा रही है। स्कूल शिक्षा विभाग ने शिक्षकों को अल्टीमेटम देते हुए इस परीक्षा में अनिवार्य रुप से शामिल होने को कहा है।विभाग द्वारा जिला शिक्षा अधिकारियों (District Education Officers) को जारी पत्र में कहा गया है कि इस परीक्षा में निलंबित  (suspended) एवं अवकाश पर रहने वाले शिक्षकों को भी अनिवार्य रुप से शामिल होना होगा।

यह भी पढ़े… सरकारी नौकरी 2021: इन पदों पर निकली वैकेंसी, अंतिम तिथि से पहले करें आवेदन

इसमें सिर्फ अस्पताल में गंभीर बीमारी के कारण एडमिट या कोविड पॉजिटिव वाले शिक्षकों को जिला शिक्षा अधिकारी (DEO) द्वारा छूट दी जाएगी।वही विभाग ने पहले चरण में गैरहाजिर रहे शिक्षकों से जवाब भी मांगा है, कि वे परीक्षा में क्यों शामिल नहीं हुए।इसके अलावा परीक्षा परिणाम कम या फेल होने पर शिक्षकों को दो माह की अवधि दक्षता सुधार के लिए दी जाएगी।

इसके बाद इन शिक्षकों का जिला स्तर पर ऑनलाईन प्रशिक्षण (Online training) भी किया जाएगा और मार्च के पहले सप्ताह में दोबारा परीक्षा होगी। वही पहले चरण में 70 फीसद से कम अंक लाने वाले शिक्षकों को आज 23 जनवरी से दक्षता प्रशिक्षण दिया जा रहा है जो हर शनिवार विषयवार शाम 4 बजे से 6 बजे के बीच ऑनलाइन चालू रहेगा।

यह भी पढ़े… बजट सत्र 2021 : सरकारी कर्मचारियों को बड़ी सौगातें दे सकती है शिवराज सरकार

प्रशिक्षण के दौरान निर्धारित टॉपिक पर प्रत्येक प्रशिक्षण दिवस के दिन ही प्रत्येक शिक्षक का प्री एवं पोस्ट टेस्ट लिया जाएगा। साथ ही प्रत्येक शिक्षक के प्रशिक्षण का संपूर्ण अभिलेख सुरक्षित रखा जाएगा।  इसमें जो भी शिक्षक प्रशिक्षण से गैरहाजिर होंगे उनके खिलाफ भी कड़ी कार्रवाई जिला शिक्षा अधिकारी करेंगे। अधिकारियों और विभाग द्वारा शिक्षकों की अनुपस्थिति को गंभीरता से लिया जाएगा।