6 साल की मासूम ने मां के खिलाफ कराया केस दर्ज, बच्ची से करती थी मारपीट, काउंसिलिंग का भी कोई असर नहीं पड़ा

घटना 31 दिसंबर 2020 की है। जब चाइल्ड लाइन (Children Helpline) को टोल फ्री नंबर (1098) पर सूचना मिली थी कि एरोड्रम थाना क्षेत्र के आम्रकुंज इलाके में रहने वाली महिला अपनी बच्ची को रोजाना पीटती है। जिसके बाद चाइल्ड लाईन ने बच्ची के इलाज के बाद जब उसकी काउंसिलिंग (counseling)भी की।

11-class-student-kidnapped-no-clue-from-25-days-

इंदौर,आकाश धोलपुरे। जिले में 6 साल की मासूम बच्ची ने अपनी मां के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज कराया है। बच्ची का आरोप है कि मां उसके पिता से लड़ती है और उसे भी पीटती है। एरोड्रम थाना पुलिस ने बच्ची की शिकायत पर उसकी मां के खिलाफ IPC की धारा 327 और जुवेनाइल जस्टिस एक्ट (JJ एक्ट) के तहत केस दर्ज कर लिया है।

ये भी पढ़े- Suicide: महिला टीचर 16 साल के छात्र से करती थी यौन शोषण, छात्र ने किया सुसाइड, कोड भाषा में लिखा नोट 

बच्ची की मां गुस्सैल स्वभाव की है। उसका पति से भी लंबे समय से विवाद चल रहा है। बच्ची को चाइल्ड लाइन ने कुछ दिन पहले रेस्क्यू (Rescue) किया था। उस समय उसके शरीर पर चोट के निशान थे। तब से वह वहीं रह रही है।
चाइल्ड लाइन के अधिकारियों के अनुसार, घटना 31 दिसंबर 2020 की है। चाइल्ड लाइन को टोल फ्री (Childline Toll Free number) नंबर पर सूचना मिली थी कि एरोड्रम थाना क्षेत्र के आम्रकुंज इलाके में रहने वाली महिला अपनी बच्ची को रोजाना पीटती है।

1 जनवरी 2021 को चाइल्ड लाइन ने एरोड्रम पुलिस की मदद से बच्ची को रेस्क्यू (Rescue) किया था। चाइल्ड लाइन की टीम जब मौके पर पहुंची, तो उन्होंने देखा कि एक मां ही अपने बच्ची पर जुल्म ढा रही है। इस मामले में उसके पिता ने ही शिकायत दर्ज कराई थी। टीम ने मां को समझाने की कोशिश की, लेकिन मां पर समझाइश का कोई असर नहीं हुआ।

ये भी पढे़– Datia News : सुकर्ण मिश्रा ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा-कांग्रेस पार्टी झूठ बोलकर मांगती है वोट 

इसके बाद बच्ची को मधुमिलन स्थित राजकीय बाल आश्रम भेजा दिया गया। चाइल्ड लाईन ने बच्ची के इलाज के बाद जब उसकी काउंसलिंग की गई, तो उसने पूरी कहानी बयां की। बच्ची का कहना था कि उसकी मां उसे बहुत मारती है। उसकी दर्दभरी दास्तां उसके शरीर पर लगे चोट के निशान खुद-ब-खुद बयां कर रहे थे। टीम ने बच्ची को आश्रम में लाने के बाद भी मां से संपर्क कर उसकी काउंसिलिंग (counseling) करने की कोशिश की, लेकिन उसके स्वभाव में कोई बदलाव देखने को नहीं मिला। इसके बाद पुलिस में केस दर्ज करवाया गया।