भोपाल।

लंबे समय से बीजेपी में प्रदेश अध्यक्ष के नाम को लेकर चल रही कश्मकश अब खत्म होने को है।  मध्यप्रदेश बीजेपी को जल्द ही नया प्रदेशाध्यक्ष मिलने वाला है।खबर है कि बीजेपी संगठन चुनाव की अंतिम तारीख तय कर दी गई है।माना जा रहा है कि 20 जनवरी के पहले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के नाम का फैसला हो जाएगा। मौजूदा अध्यक्ष राकेश सिंह ही पार्टी के अगले प्रदेश अध्यक्ष होंगे या कोई नया चेहरा प्रदेश की कमान संभालेगा, इसे लेकर सियासी गलियारों में कयासबाजी का दौर तेजी से चल रहा है। 

दरअसल, नागरिकता कानून (सीएए) के विरोध और मलमास के कारण दिसंबर में प्रदेश अध्यक्ष का चुनाव नहीं हो पाया था। अब संभावना है कि 20 जनवरी के पहले बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के नाम का फैसला हो जाएगा। बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व ने अंतिम तारीख तय कर दी है। साथ ही प्रदेश अध्यक्ष के अलावा 23 जिला अध्यक्ष के नाम भी संगठन को करना फाइनल करना है जो अब तक नही हुए हैं। बीते दिनों  हाईकमान की ओर से भेजे गए पर्यवेक्षक भी मप्र भाजपा के नेताओं से चर्चा कर अपनी रिपोर्ट दे चुके हैं।वही सुत्रों की माने तो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ भी नए प्रदेश अध्यक्ष को लेकर अपनी राय स्पष्ट कर चुका है।जिसके चलते कभी भी नए प्रदेशाध्यक्ष का ऐलान हो सकता है।वही 12  जनवरी को पार्टी अध्यक्ष अमित शाह भी दौरे पर आ रहे है, ऐसे में सियासी गलियारों में हलचल तेज हो चली है।

फिलहाल  बीजेपी में प्रदेश अध्यक्ष के चुनाव की रेस में राकेश सिंह के अलावा शिवराज सिंह का नाम भी जोर-शोर से चल रहा है। माना जा रहा है कि केंद्रीय संगठन की ओर से दोनों नेताओं को प्रदेश अध्यक्ष के नाम पर सामंजस्य बनाने की ताकीद की गई थी, जिसके बाद दिल्ली में टॉप सीक्रेट मीटिंग हुई थी।वही बीते दिनों केन्द्रीय मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर और शिवराज के बीच भी चर्चा हो चुकी है।  कुछ महिनों बाद ही निकाय चुनाव होने वाले है, इससे पहले पार्टी नया प्रदेशाध्यक्ष चुन संगठन को मजबूत करने की तैयारी में है। ऐसे में माना जा रहा है कि इसी हफ्ते में नए प्रदेशाध्यक्ष के नाम पर मुहर लग सकती है।

दौड़ में ये भी शामिल

भाजपा प्रदेशाध्यक्ष की दौड़ के आधा दर्जन से ज्यादा दावेदार हैं। जिसमें मौजूदा प्रदेशाध्यक्ष राकेश सिंह के अलावा सांसद वीडी शर्मा, अजय प्रताप सिंह, गजेन्द्र सिंह पटेल, भूपेन्द्र सिंह, नरोत्तम मिश्रा, अजय प्रताप सिंह, दीपक विजयवर्गीय, अरविंद भदौरिया का नाम शामिल हैं। खास बात यह है कि शिवराज सिंह चौहान भी प्रदेशाध्यक्ष के लिए मजबूत दावेदार बताए जा रहे हैं।सुत्रों की माने तो अगर शिवराज को प्रदेश की कमान सौंपी जाती है तो राकेश सिंह को केंद्रीय मंत्रिमंडल में भेजा जा सकता है।