बड़ा फैसला: मध्यप्रदेश में गंभीर बीमारियों के लिए होगी अलग से इलाज की व्यवस्था

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। प्रदेश में अब ऐसी गंभीर बीमारियां जिनका समाज पर विपरीत असर पड़ता है, उनके लिए अलग से सुव्यवस्थित इलाज की व्यवस्था की जाएगी। चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग (vishwas sarang) ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने निर्देशित किया है ऐसी जानलेवा गंभीर बीमारियां जैसे न्यूरो संबंधी, कैंसर, हार्ट, थैलिसीमिया आदि जिनसे मरीज तो परेशान होते ही हैं, उनके परिजन भी बेहाल हो जाते हैं..ऐसी बीमारियों का अलग से और सुव्यवस्थित इलाज हो सके इसकी व्यवसथा बना रहे हैं। वहीं उन्होने कहा कि डॉक्टरों और नर्सेंस के खाली पदों पर नियुक्ति कर रहे हैं और मेडिकल इन्फ्रास्ट्रक्चर को मजबूत करने की कोशिश कर रहे हैं।

Google, Facebook को पार्लियामेंट्री पैनल का बुलावा, नए आइटी नियमों के सिलसिले में होगी चर्चा

इसी के साथ विश्वास सारंग ने बताया कि प्रदेश में लगातार कोविड 19 केस में लगातार कमी आ रही है। पिछले 24 घंटों में केवल 37 पॉसिटिव केस आए है और अब एक्टिव केस की संख्या 696 है। बहुत सारे जिलो में एक भी केस नहीं है। उन्होने कहा कि हम लगातार टेस्टिंग कर रहे हैं। प्रदेश में अब रिकवरी रेट 98.78 प्रतिशत हो गई है। उन्होने कहा कि प्रदेश में वैक्सीन की कोई कमी नहीं है। हम एक दिन में 10 लाख टीके लगा रहे हैं और हमें जून का कोटा भी प्राप्त हो गया है। वैक्सीन को लेकर केंद्र से लगातार बात की जा रही है।

यूनियन कार्बाइड के कारखाने का कचरा नष्ट करने के मुद्दे पर उन्होने कहा कि हम उन्हें रोजगार देने के लिए प्रतिबद्ध है। कांग्रेस बिना किसी तथ्यों के आरोप लगा रही है। उस जमीन पर मेमोरियल बनेगा। वैज्ञानिक तरीके से यूनियन कार्बाइड के कारखाने के कचरा का निष्पादन होगा। वहीं 2023 को लेकर कांग्रेस की तैयारियों पर विश्वास सारंग ने कहा कि न नेता न नीयत…किस बात की तैयारी कर रही है कांग्रेस। कांग्रेस भूली बिसरी बात है और वो सिर्फ अपनी राजनीतिक रोटी सेंक रही है। दिग्विजय सिंह द्वारा साइबर क्राइम में शिकयत करने की बात पर उन्होने कहा कि वो हमेशा पाकिस्तान परस्त बातें करते हैं। ये निश्चित हो चुका है कि केवल पाकिस्तान को और आतंकवादियों को संरक्षण देने की बात करते हैं।