बीमा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के समर्थक और शिवराज सरकार (Shivraj Government) में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (Pradyuman Singh Tomar) के निर्देश के बाद मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (Central Region Power Distribution Company) के प्रबंध संचालक विशेष गढ़पाले ने श्योपुर का एक दिवसीय सघन दौरा किया और किसानों (Farmers) को लेकर कई बड़े निर्देश दिए।उन्होंने विद्युत वितरण व्यवस्था के सुधार के लिए व्यापक निर्देश दिए और राजस्व संग्रह के लिए जरूरी मार्गदर्शन दिया।

यह भी पढ़े.. शिवराज कैबिनेट की बैठक संपन्न, किसानों को मिला बड़ा फायदा, इन प्रस्तावों पर लगी मुहर

दरअसल, आज मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी (Central Region Power Distribution Company) के प्रबंध संचालक विशेष गढ़पाले ने श्योपुर (Sheopur) की विद्युत वितरण व्यवस्था मजबूत बनाने और निर्बाध विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए  का एक दिवसीय सघन दौरा किया। उन्होंने अवैध रूप से रखे गए 2 ट्रांसफार्मरों (Transformers) के लिए कॉन्ट्रेक्टर के विरूद्ध कार्यवाही के निर्देश दिए और  ट्रांसफार्मर जिस कंपनी के हैं, उस सप्लायर के खिलाफ एफआईआर (FIR) दर्ज की जाए। खास बात ये है कि दो दिन पहले ही श्योपुर में किसान आंदोलन (Farmers Protest) के समर्थन में महापंचायत का आयोजन किया गया था।

प्रबंध संचालक ने एक हार्डवेयर की वर्कशॉप का निरीक्षण किया एवं वहॉ भारवृद्धि कराई गई साथ ही परिसर में बिजली (ELECTRICITY) चोरी करने एवं पीछे ही एक फार्महाउस पर बिना कनेक्शन लिये खेती किये जाने पर प्रकरण बनाए जाने के निर्देश दिये। भोगी का सब स्टेशन के सामने विक्रम सिंह का एक फार्महाउस है जहॉ ए.सी. चलते हुए पाये गये। उन्हें भार वृद्धि करने और ऐसे सभी कनेक्शनों को परिवर्तित करते हुए डी.एल. फीडर से जोड़ने के निर्देश दिये गये।

वनाधिकार धारक किसानों को मिलेगा कनेक्शन

महाप्रबंधक द्वारा निरीक्षण के दौरान बताया कि लगभग 400 ऐसे वनाधिकार धारक किसान हैं जो ओ.वाय.टी. योजना के तहत कनेक्शन लेना चाहते हैं, को कनेक्शन देने की कार्यवाही शुरू की गई है। भोगीका बायो फ्यूल का एच.टी. कनेक्शन चैक किया गया, जिस पर विगत दो माह से एम.डी. शूट हो रही थी। बी.आई. सेल को विधिनुसार कार्यवाही तथा विस्तृत जाँच करने के निर्देश दिये गये। अजय फेमिली रेस्टोरेंट का कनेक्शन चेक करने पर वहाँ दो पम्प मिले जिनका उपयोग ढाबे के लिए किया जा रहा था। इन्हें पम्प समूह से कनेक्शन दिया गया है। इसे गैर घरेलू कनेक्शन देने के निर्देश दिये गये।

यह भी पढ़े.. MP College: स्वरोजगार और सरकारी नौकरियों को लेकर शिवराज सिंह चौहान का बड़ा ऐलान

ग्राम सोई के पास लेफ्ट साईट मे निर्मित हो रही 8-10 दुकानों और गाँव के अन्दर निर्मित एक शॉपिंग कॉम्प्लेक्स की पाँच दुकानों सहित अन्य निर्माण कार्यों के अस्थाई कनेक्शन चेक करने के निर्देश दिये गये। गाँव के अन्दर शॉपिग कॉम्प्लेक्स एवं दुकानों को कनेक्शन न देने के लिए प्रबंध संचालक ने कार्मिकों पर कार्यवाही के निर्देश दिए।प्रबंध संचालक ने कहा कि श्योपुर में एक सर्वे कराया जाए कि कहाँ पर कितने बोर हैं, कितने फक्शनल हैं, कितने नॉन फक्शनल हैं। इसका रिकॉर्ड रखा जाए और धान एवं रबी का सीजन आने पर इसका फिर से भौतिक सत्यापन किया जाये।

कॉन्ट्रेक्टर पर कार्यवाही के निर्देश

महाप्रबंधक कार्यालय परिसर में ही श्योपुर दक्षिण के निरीक्षण के दौरान पाया गया कि उप महाप्रबंधक और ऑपरेटर कंपनी के संकल्प पोर्टल का प्रचालन ही नहीं कर पा रहे हैं। उन्होंने दो हजार लंबित प्रकरणों पर कार्यवाही के निर्देश दिए और सभी ओ.वाय.टी. प्रकरणों को अतिशीघ्र चेक कर स्वीकृति के निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट किया कि ऐसे प्रकरणों को लंबित न रखा जाए, जिनसे कंपनी को राजस्व मिलता है अन्यथा संबंधित के खिलाफ आर्थिक दंड की कार्यवाही की जाएगी।

गौरतलब है कि ऊर्जा मंत्री (Energy Minister) प्रद्युम्न सिंह तोमर ने अधिकारियों को क्षेत्र का सतत भ्रमण कर विद्युत वितरण व्यवस्था सुधारने के निर्देश दिये हैं। कंपनी के प्रबंध संचालक विशेष गढ़पाले ने श्योपुर जिले के भोगीका सब स्टेशन का निरीक्षण किया। यह क्षेत्र राजस्थान (Rajasthan) के सवाई माधोपुर से लगा गहरा वन क्षेत्र है। यहाँ पर उपकेन्द्र 1500 के.व्ही.ए.आर. का एक कैपेसीटर बैंक चालू था, लेकिन मैन्युअल मोड पर था और ऑपरेटर द्वारा उसे चलाया नहीं गया था।

यह भी पढ़े.. MP: लापरवाही पर इन स्कूलों को नोटिस, मान्यता रद्द करने की चेतावनी

एक कैपेसीटर (1500 के.व्ही.ए.आर.) पर मात्र 300 के.व्ही.ए.आर. की यूनिट लगी थी और शेष 2-3 महीने से खराब बतायी गयी। यहाँ भी कैपेसीटर बैंक बन्द था। प्रबंध संचालक ने मौके पर दोनों को चालू कराया और संबंधित उप महाप्रबंधक एस.टी.एम. एवं उप महाप्रबंधक संचारण संधारण पर कार्यवाही के निर्देश दिए। भरौडा सब स्टेशन के निरीक्षण के दौरान दोनों कैपेसीटर बैंक चालू पाये गये, लेकिन उन्हें मैन्युअल मोड पर ही रखा गया था। उन्हें ऑटोमैटिक मोड पर करने के निर्देश दिये गये।