बीजेपी के लिए प्रतिष्ठा का सवाल बनी यह सीटें, संघ ने संभाला मोर्चा

-This-seat-is-a-question-of-prestige-for-the-BJP-rss-took-care-of-the-Front

भोपाल। प्रदेश में लोकसभा की एक चौथाई सीटों पर भाजपा ने संघ की पसंद के चेहरे उतारे हैं। जिन्हें जिताने के लिए संघ ने मोर्चा संभाल लिया है, लेकिन भोपाल और खजुराहो में संघ की प्रतिष्ठा दांव पर लग गई है। ऐसे में भोपाल में प्रज्ञा ठाकुर और खजुराहो में वीडी शर्मा को जिताने पर संघ का ज्यादा फोकस हैं। इन दोनों भाजपा प्रत्याशियों के समर्थन में संघ ने सभी प्रमुख अनुषांगिक संगठनों के पदाधिकारी एवं कार्यकर्ताओं को मैदान में उतार दिया है। हालांकि अन्य लोकसभा सीट उज्जैन, ग्वालियर, राजगढ़, बैतूल और खरगोन में भी संघ की पसंद के प्रत्याशी हैं, लेकिन संघ इन सीटों पर इतना फोकस नहीं कर रहा है। 

भारतीय जनता पार्टी ने भोपाल लोकसभा सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह के खिलाफ काफी मंथन के बाद प्रज्ञा सिंह ठाकुर को प्रत्याशी बनाया। इसी तरह संघ की जिद के चलते वीडी शर्मा को खजुराहो से चुनाव मैदान में उतारा गया। अब इन दोनों सीटों पर भाजपा प्रत्याशियों को कांग्रेस से कड़ी टक्कर मिल रही है। दोनों प्रत्याशियों को भितरघात का बड़ा खतरा है। ऐसे में संघ ने अंदरूनी तौर पर चुनाव-प्रचार की कमान संभाल ली है। जो भाजपा नेताओं के साथ मिलकर प्रत्याशियों का प्रचार कर रहे हैं। 

साध्वी के लिए संघ सक्रिय, अरुण कुमार ने संभाला मोर्चा 

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने अपने मुख्य एजेंडे में लोकसभा चुनावों में भोपाल सीट पर जीत दर्ज करना शामिल किया है | जिसके लिए संघ ने राज्य की राजधानी में अपने सभी स्वयंसेवकों को सक्रिय कर दिया है। संघ ने केंद्र से विशेष रूप से भोपाल सीट के लिए साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के लिए एक पदाधिकारी भी भेजा है। RSS के अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख अरुण कुमार प्रज्ञा के सभी चुनाव संबंधी मामलों की देखरेख करेंगे। यह पहली बार है जब आरएसएस ने अपने किसी राष्ट्रीय स्तर के पदाधिकारी को चुनाव में ड्यूटी पर तैनात किया है। प्रज्ञा ने शुक्रवार को कुमार से भी मुलाकात की और चुनाव पर चर्चा की। कुमार ने प्रज्ञा को लोगों को विचारधारा का प्रचार करने का तरीका भी बताया। कुमार राष्ट्रवादी विचारधारा वाले लोगों से मिलकर भोपाल में प्रज्ञा के लिए अनुकूल वातावरण विकसित करने में मदद करेंगे। कुमार आरएसएस की रणनीति भी तय करने जा रहे हैं और प्रज्ञा के चुनावों के लिए आरएसएस नेताओं को जिम्मेदारियां सौंप रहे हैं। 

अभाविप में रहे हैं दोनों

वीडी शर्मा लंबे समय तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय संयोजक रहे हैं। उनका विद्यार्थी परिषद में अच्छा खासा नेटवर्क है। साथ ही मप्र भाजयुमो में ज्यादातर पदाधिकारी वीडी समर्थक हैं, जो अभाविप से जुड़े रहे हैं। प्रज्ञा ठाकुर भी अभाविप में रही हैं। यही वजह है कि भोपाल और खजुराहो लोकसभा क्षेत्र में अभाविप और भाजयुमो के पदाधिकारी अपेक्षाकृत ज्यादा समय दे रहे हैं। मोर्चा अध्यक्ष समेत अन्य पदाधिकारियों ने खजुराहो में ढेरा डाल लिया है। दोनों प्रत्याशी पहली बार चुनाव मैदान में है। उल्लेखनीय है कि वीडी शर्मा मूलत: मुरैना के रहने वाले हैं और प्रज्ञा ठाकुर भिंड से हैं। 

असंतुष्ठों को मनाने में कामयाब रहे वीडी

भाजपा हाईकमान ने जब खजुराहो से वीडी शर्मा को प्रत्याशी बनाए जाने का ऐलान किया था, तब स्थानीय नेता वीडी के विरोध में उतरे थे। कटनी एवं छतरपुर के कुछ नेताओं ने इस्तीफे की पेशकश भी की थी। लेकिन नामांकन दाखिल करने के बाद वीडी ने सबसे पहले असंतुष्ठों को मनाने का काम किया। जिसमें वे सफल रहे हैं। जो भाजपा नेता वीडी का विरोध कर रहे थे, वे वीडी के चुनाव प्रचार में सबसे आगे हैं। 

ये हैं संघ की पसंद के प्रत्याशी 

क्षेत्र         प्रत्याशी राजनीति

उज्जैन अनिल फिरोजिया पूर्व विधायक 

खरगोन गजेन्द्र पटेल पहला चुनाव

बैतूल          दुर्गादास उइके पहला चुनाव 

ग्वालियर        विवेक शेजवलकर महापौर 

राजगढ़  रोडमल नागर सांसद

खजुराहो  वीडी शर्मा पहला चुनाव 

भोपाल प्रज्ञा सिंह ठाकुर पहला चुनाव

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here