तीसरे चरण में प्रदेश की हॉट सीटों पर कांटे की टक्कर, दांव पर दिग्गजों की साख

tough-fight-on-hot-seats-of-madhya-pradesh

भोपाल| लोकसभा चुनाव को लेकर मध्य प्रदेश में चुनावी जंग तेज हो गई है| दो चरणों के बाद अब तीसरे चरण में प्रदेश की हॉट सीटों पर वोटिंग होनी हैं| जहां दिग्गजों का मुकाबला दिग्गजों से है| देश भर की निगाहें इन सीटों के मुकाबले पर टिकी हुई हैं| तीसरे चरण में 12 मई को मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, भोपाल, राजगढ़ में वोट डाले जाएंगे| देश भर में सबसे ज्यादा सुर्ख़ियों में रही भोपाल सीट पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह बनाम भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के बीच कांटे का मुकाबला है| बीजेपी ने कट्टर हिंदूवादी छवि की प्रज्ञा को उतारा तो कांग्रेस भी साधु संतों के समर्थन के साथ सड़कों पर उतर ै है जिससे अब भोपाल का चुनाव भगवामय हो गया है, प्रज्ञा के इस चुनाव को धर्मयुद्ध कहने के बाद दिग्विजय ने विकास का मुद्दा उठाया, लेकिन अंतिम दौर में संतों को आगे कर कांग्रेस ने बड़ा दांव चल दिया है| यहाँ कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है| वहीं गुना में ज्योतिरादित्य सिंधिया और मुरैना नरेंद्र तोमर की प्रतिष्ठा दांव पर है| 

देश की हॉट सीटों में शुमार इन सीटों पर दिग्गजों के भाग्य का फैसला इसी चरण में होगा| जीत के लिए दोनों प्रमुख राजनीतिक पार्टियों ने पूरी ताकत झोंक दी है। दो चरणों से सबक लेकर तीसरे चरण के लिए नेताओं ने रणनीति में भी बदलाव किया है। ऐसे में प्रदेश में स्टार प्रचारकों का जमावड़ा भी लगने लगा है।  बड़ी सियासी जंग भोपाल सीट पर ही है। यहां दिग्विजय के समर्थन में जहां राजबब्बर, जावेद अख्तर, स्वामी अग्निवेश, भूपेश बघेल जैसे दिग्गज आ चुके हैं। वहीं, प्रज्ञा ठाकुर के लिए शिवराज सिंह चौहान, उमा भारती, नितिन गडकरी सहित कई बड़े नेता सभा और रैली कर चुके हैं। दोनों ओर से दूसरे बड़े नेताओं का आना अभी शेष है। दिग्विजय के लिए राहुल या प्रियंका गांधी आ सकते हैं तो प्रज्ञा के समर्थन में पीएम नरेंद्र मोदी के आने की संभावना है तो वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह भी रोड शो करने वाले हैं| 

गुना

सिंधिया परिवार के प्रभाव वाली इस गुना शिवपुरी संसदीय क्षेत्र में ज्योतिरादित्य सिंधिया मैदान में हैं और यूपी की सीटों के प्रभार के कारण गुना सीट पर इस बार ज्योतिरादित्य सिंधिया को समय कम मिला, लेकिन उनकी पत्नी प्रियदर्शिनी राजे ने पूरा मैदान संभल रखा है| वहीं बसपा प्रत्याशी लोकेंद्र सिंह राजपूत उनके साथ हो गए। सिंधिया के कारण यह सीट भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के टारगेट पर थी, लेकिन बाद में भाजपा ने केपी यादव को प्रत्याशी बनाया। इस सीट पर अब सिंधिया की साख दांव पर है। 

मुरैना

ग्वालियर सीट बदलकर मुरैना पहुंचे केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के लिए यह चुनाव प्रतिष्ठा का सवाल है। मुरैना उनकी पुरानी सीट रही है, लेकिन पांच साल में यहां चुनौतियां कम होने के बजाय और बढ़ गई हैं। कांग्रेस प्रत्याशी रामनिवास रावत हैं, जो विधानसभा चुनाव की हार का बदला संसदीय चुनाव में लेना चाहते हैं। तोमर भाजपा के दिग्गज नेताओं में शुमार हैं, इसलिए उनकी सीट पर सबकी नजरें टिकी हुई हैं।

भोपाल

भोपाल सीट पर पूर्व सीएम व कांग्रेस प्रत्याशी दिग्विजय सिंह और भाजपा प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर में सियासी जंग है। दिग्विजय विकास और मुद्दों का एजेंडा लेकर चुनाव लड़ रहे हैं तो प्रज्ञा के पीछे संघ-भाजपा वोटों के धार्मिक धुव्रीकरण को केंद्र बिन्दु बनाकर दांव चल रही है। चुनाव प्रबंधन के अंतिम दौर में डोर-टू-डोर जनसंपर्क बढ़ गया है। दिग्विजय अब संसदीय क्षेत्र की पदयात्रा की राह पर हैं। वहीं, प्रज्ञा धर्म की अलख जगा रही हैं।

भिंड : यहां भाजपा प्रत्याशी पूर्व विधायक संध्या राय व बसपा से कांग्रेस में आए देवाशीष जरारिया के बीच जंग है। पूरा वोट जातीय समीकरणों पर टिका है। भाजपा ने मौजूदा सांसद भागीरथ प्रसाद का टिकट काटकर संध्या को मैदान में उतारा है।

ग्वालियर : यहां भाजपा प्रत्याशी विवेक शेजवलकर और कांग्रेस प्रत्याशी अशोक सिंह में मुकाबला है। यहां से मौजूदा सांसद नरेंद्र सिंह तोमर एंटी-��ंकम्बेंसी से बचने के लिए सीट बदल चुके हैं। विधानसभा चुनाव में कांग्रेस यहां मजबूत हुई है।

सागर : यहां भाजपा प्रत्याशी राजबहादुर सिंह और कांग्रेस प्रत्याशी प्रभु सिंह ठाकुर आमने – सामने हैं। दोनों पार्टियों ने यहां चेहरे बदलने का दांव खेला है। यह सीट 1996 से भाजपा के पास है। भाजपा ने लक्ष्मीनारायण यादव का टिकट काटा है।

विदिशा : 1989 से यहां भाजपा जीतती आई है। अटल बिहारी वाजपेयी, सुषमा स्वराज और शिवराज सिंह चौहान के कारण पहचानी जाने वाली विदिशा सीट पर भाजपा ने नए चेहरे रमाकांत भार्गव तो कांग्रेस ने शैलेंद्र पटेल को मौका दिया है।

राजगढ़ : यह दिग्विजय सिंह की परंपरागत सीट रही है, लेकिन उनके खेमे से मोना सुस्तानी कांग्रेस प्रत्याशी हैं। भाजपा ने मौजूदा सांसद रोडमल नागर को ही दोबारा उतारा है। यहां का क्षेत्र कांग्रेस में दिग्विजय गुट ने ही संभाल रखा है।