तुलसी सिलावट ने अधिकारियों को दिए कई बड़े निर्देश, बोले-कोई लापरवाही ना हो

तुलसी सिलावट ने कहा कि डेम से सिंचाई का पानी देने से पहले सभी किसानों के साथ बैठक करे, यदि कोई नहर टूटी है तो उसको पहले सुधारे।

तुलसी सिलावट

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक और मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के शिवराज सरकार (Shivraj Government) में जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने रायसेन के सम्राट अशोक सागर बांध स्थित एमपी टूरिज्म के सभा गृह पर आयोजित समीक्षा बैठक में निर्देश दिए की बांध की दीवार पर बनी सड़क को बनाया जाए। दीवार के दोनों ओर सुरक्षा की दृष्टि से रेलिंग भीं लगाई जाए। इसके साथ ही तुलसी सिलावट ने बांध के पास की सड़क को बनाने के लिए प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए है।

यह भी पढ़े..पृथ्वी से कभी भी टकरा सकता है Solar Storm, 16 लाख KM प्रतिघंटे की रफ्तार से बढ़ रहा आगे

मंत्री तुलसी सिलावट (Water Resources Minister Tulsi Silavat)  ने विभागीय अधिकारियों से कहा की बांध लाभन्वित सभी किसानो (Farmers) से लगातार चर्चा करें। पुरानी जल समिति के सदस्यों के साथ बैठक कर सुझाव भी लें। स्थानीय जन- प्रतिनिधियों से भी चर्चा करें। बांध से लगभग विदिशा के 115, रायसेन के 35 और भोपाल जिले के 11 गांव के 12 हजार से अधिक किसान लाभान्वित होते है। उनसे सतत संपर्क में रहकर संवाद स्थापित किया जाए। स्थानीय सांसदों, विधायकों से सुझाव लेते रहे। उनसे संवाद रखें। कोविड में यदि किसी मृत्यु हुई है तो उसके आश्रित को तुरंत अनुकंपा नियुक्ति (compassionate appointment) दी जाए

तुलसी सिलावट ने कहा कि डेम से सिंचाई का पानी देने से पहले सभी किसानों के साथ बैठक करे, यदि कोई नहर टूटी है तो उसको पहले सुधारे।बांध से पानी ओवर फ्लो और बाढ़ (Flood) की स्थिति में क्षेत्र डूब अद्यतन जानकारी दे। बांध से ओवर फ्लो की स्थिति में बेस्टवियर से पानी निकालने के लिए 24 करोड़ की कार्ययोजना को तुरंत समीक्षा कर टेंडर लगाने, डेम से निकलने वाली नहरों का निरीक्षण करें और उनके रख रखाव की समुचित व्यवस्था की जाए।  डेम, नहरों के आसपास यदि अतिक्रमण है तो उसे तुरंत हटाया जाए।

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के13 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, यहां बिजली गिरने के भी आसार

तुलसी सिलावट ने कहा डेम से ओवर फ्लो होने की स्थिति से निपटने के लिए विभाग ने कार्य योजना बनाई है। इसके लिए गहरीकरण कर अलग से गेट लगाए जायेंगे और अतिरिक्त पानी निकाला जाएगा।जल संसाधन विभाग की बैठक में स्थानीय विधायक, मंत्री को भी आमंत्रित किया जाए, निर्माण कार्यों के उद्घाटन में भी सभी स्थानीय नेताओं को भी बुलाया जाने के निर्देश दिए है। स्थानीय नगरीय निकायों को पीने का पानी दिया जा रहा है। इसके लिए भी सभी संबंधित निकायो से पेयजल की बकाया राशि वसूल करने की करवाई की जाए। रायसेन से 88 लाख और विदिशा से 72 लाख रुपए की राशि ली जाना बकाया है।

मोटर बोट से पहुंचे बांध को देखने

तुलसी सिलावट ने डेम के कैचमेंट क्षेत्र और नहरों के किनारे वृक्षारोपण करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही पूरे प्रदेश में सभी डेमो और नहरों के आसपास खाली जगहों पर व्यापक वृक्षारोपण करने के निर्देश दिए है।मछली पालन की समीक्षा करते हुए तुलसी सिलावट ने बांध में केज में पाली जा रही मछली पालन को भी देखने मंत्री मोटर बोट से पहुँचे और उच्च गुणवत्ता की मछली पालने को कहा। उन्होंने लिए लोगो को प्रोत्साहित किया जाए और हलाली डेम में मछली की गुणवत्ता को बढ़ाने के लिए अच्छा बीज भी डालने के निर्देश भी दिए है। अधिकारियो को कहा की सभी मछुआरों के मछुआ क्रेडिट कार्ड बनाने के लिए कैंप लगाए जाए।नाव और जाल के लिए भी अनुदान की व्यवस्था हो।

टेंडर लगाने के निर्देश

स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी (Health Minister Prabhuram Choudhary) ने कहा की रायसेन विधानसभा (Raisen Assembly) के 35 गांव इससे सिंचाई का पानी लेते है। डेम से लगे हुए गांव में पानी उपलब्धता के लिए अलग से योजना बनाई जाए। दीवान गंज, महुआ खेड़ा, अमन गंज आदि और पास गांव में भी पानी पहुंचाने के लिए पाइप लाइन बढ़ाई जाए। आस पास के पुल पुलिया बनाई जाए जिससे बरसात में भी गांव से कनेक्टिविटी बनी रहे। धनियाखेड़ी, गडरा खेड़ी गांव के लोगो की सुविधा के लिए भी पुलिया बनाई जाए। इसके लिए जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट ने तुरंत टेंडर लगाने के निर्देश दिए।