UPSC 2020 : MP के स्वर्गीय IAS के बेटे ने पूरी की पिता की इच्छा, आईएएस में सफल

प्रतीक राव (Prateek Rao) का आईएएस में चयन हुआ है और उन्होंने 459 रैंक हासिल की है।

upsc

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। यूपीएससी ने सीएसई मेन 2020 फाइनल परीक्षा (UPSC CSE Final Result 2020) के नतीजे घोषित कर दिए है। इसमें देश के अलग अलग राज्यों से युवाओं ने जीत हासिल कर परचम लहराया है। वही मध्य प्रदेश से भी कई उम्मीदवारों ने भी इसमें सफलता हासिल कर प्रदेश का मान बढ़ाया है। इसमें एक नाम मध्य प्रदेश कैडर के आईएएस (IAS) अधिकारी स्वर्गीय टी धर्माराव के बेटे प्रतीक राव का भी नाम शामिल है, जिन्होंने अपने पिता की इच्छा को पूरा कर दिया है।उम्मीदवार upsc.gov.in पर मेरिट लिस्ट चेक कर सकते हैं।

यह भी पढ़े.. UPSC 2020 : एमपी कैडर के IPS के बेटे की ऊची छंलाग, IAS में हासिल की सफलता

प्रतीक राव (Prateek Rao) का आईएएस में चयन हुआ है और उन्होंने 459 रैंक हासिल की है। खास बात ये है किप्रतीक का पिछले साल IRTS में सिलेक्शन हुआ था ।अपने पापा मम्मी को खोने के बावजूद प्रतीक का IIM कोलकाता में सिलेक्शन हुआ था, उसके बाद एक साल काम करने के बाद पापा की इच्छा थी की बेटा IAS का परीक्षा निकलना चाहिए। उनकी इच्छा को पूरी करने के लिए प्रतीक पिछले चार साल से मेहनत कर रहे थे और अब IAS का मुकाम हासिल कर उनकी इच्छा को पूरा कर दिया है।

बता दे कि साल 2013 में प्रतीक के कैट में सिलेक्शन होने के बाद उन्हें आईआईएम कोलकाता (IIM Kolkata) में प्रवेश मिला था, इसी खुशी को सेलेब्रेट करने के लिए लेह-लद्दाख गए थे, तभी वहां से लौटते समय उनकी कार का एक्सिडेंट हो गया और हादसे मैं टी धर्माराव और उनकी पत्नी की मौत हो गई थी। इस टूर पर उनके साथ अफसर अशोक अवस्थी और शिवेंद्र सिंह दंपत्ति भी घूमने गए थे। इस दौरान शिवेंद्र सिंह की पत्नी कुमुद सिंह की भी मौत हो गई थी। जबकि अशोक अवस्थी, उनकी पत्नी मंजरी अवस्थी तथा शिवेंद्र सिंह घायल हुए थे।

यह भी पढ़े.. मुख्यमंत्री शिवराज सिंह की बड़ी घोषणा- मप्र में जल्द लॉन्च होगी नई योजना, दिए निर्देश

गौरतलब है कि अगस्त-सितंबर 2021 को आयोजित इस लिखित परीक्षा और इंटरव्यू के आधार पर कुल 761 उम्मीदवारों का चयन हुआ है इस साल कुल 836 पद पर नियुक्तियां होनी हैं। इनमें 180 IAS, 36 IFS, 200 IPS के अलावा सेंट्रल सर्विस ग्रुप A के 302 और ग्रुप B के 118 पद हैं। सामान्य वर्ग के 263, आर्थिक रूप से पिछड़े 86, पिछड़ा वर्ग से 229, अनुसूचित जाति 122, अनुसूचित जनजाति से 61 कैंडिडेट ने परीक्षा पास की है। जिसके बाद कुल मिलाकर 761 कैंडिडेट परीक्षा पास कर चुके है। वहीं 150 अभ्यर्थियों को रिजर्व रखा गया है।