क्या राकेश की जीत का ‘चौका’ रोक पाएंगे तन्खा, कांग्रेस को 23 साल से इंतजार

Will-Congress-Tankha-win-jabalpur-seat

भोपाल। महाकौशल का केंद्र संस्कारधानी कहे जाने वाल जबलपुर में कांग्रेस को एक बार फिर जीत की तलाश है। भोपाल के बाद जबलपुर संघ का गढ़ कहा जाता है। यहां बीजेपी का किला भेदने के लिए कांग्रेस कई बार विफल रही है। इंदौर और भोपाल के बाद जबलपुर वह शहरी सीट है जहां कांग्रेस लंबे समय से हार रही है। इस सीट पर कांग्रेस को अखिरी बार 1991 में जीत मिली थी। उसके बाद से बीजेपी लगातार यहां से छह बार जीती है। 

बीजेपी ने एक बार फिर वर्तमान सांसद और बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह को इस सीट से उम्मीदवार बनाया है। कांग्रेस ने इस बार लोकसभा चुनाव में अपनी रणनीति बदली है। पार्टी कठीन सीटों पर अपने बड़े चेहरों पर दांव लगा रही है। एक बार फिर कांग्रेस ने विवेक तन्खा को इस सीट पर टिकट दिया है। 2014 में भी तन्खा को मौका मिला था लेकिन वह मोदी लहर में हार गए थे। पिछले चुनाव में तन्खा को इस सीट से 2.1 लाख वोटों से हार मिली थी। लेकिन बाद में कांग्रेस ने उन्हें राज्य सभा भेज दिया। अब फिर पार्टी ने तन्खा पर भारोसा जताया है। इस क्षेत्र में बीजेपी की पकड़ मजबूद है। लेकिन हाल ही में हुए विधानसभा चुनाव में कांग्रेस में यहां अच्छा प्रदर्शन किया है। आठ विधानसभा सीट में से कांग्रेस ने चार सीटों पर जीत हासिल की है। 

राकेश सिंह यहां से वर्तमान सांसद हैं, वह बीजेपी के इस समय प्रदेश अध्यक्ष भी हैं। सिंह इस चौथी बार जीत की फिराक में हैं। लेकिन इस बार बीजेपी के लिए राह आसान नहीं है। 2014 में मेदी लहर के चलते कई उम्मीदवार जीते थे। जबलपुर में विकास बहुत बड़ा मुद्दा है। तन्खा इसी बात को भुनाने में लगे हैं। यही नहीं बीजेपी के खिलाफ इस सीट पर सत्ता विरोधी लहर भी है। लेकिन सवाल यह है क्या कांग्रेस इन सबको जीत में बदलने में कामयाब हो सकती है। तन्खा की बेदाग छवि है वह बीजेपी की विफलताओं जनता के सामने लेकर जा रहे हैं। 

पूरा कैम्पेन भाजपा सांसद की लाइन, ‘ये मेरा विषय नहीं हैँ पर केंद्रित है. कहानी यह है कि जब कोई भाजपा प्रदेश अध्यक्ष और जबलपुर सांसद राकेश सिंह से मिलने जाता था वह कहते थे, ‘ये मेरा विषय नहीं हैँ’. तन्खा के केम्पेन में पोस्टर्स कहते हैं, ‘हाँ, ये मेरा विषय है’. सांसद ज़िम्मेदार होता है. कांटे की टक्कर की उम्मीद है. 

क्या है राजनीतिक इतिहास

जबलपुर सीट लगातार कांग्रेस के दिग्गज नेता सेठ गोविंद दास ने जीती थी, जो 1957 (जब सीट अस्तित्व में आई) से लेकर 1971 तक इसे जीतते रहे। 1974 में, जब सेठ गोविंद दास की मृत्यु हुई, तो चुनाव की आवश्यकता पड़ी और, शरद यादव (समर्थित) जयप्रकाश नारायण) यहाँ से उपचुनाव में जीते, कांग्रेस के रवि मोहन दास को हराया। बाद में, जनता की लहर के दौरान यादव 1977 में फिर से यहां से चुने गए, जब उन्होंने कांग्रेस के जेएन अवस्थी को हराया। 1980 में, कांग्रेस के मुंदर शर्मा ने राजमोहन गांधी को हराया। 1982 में, भाजपा के बाबूराव परांजपे ने पहली बार भाजपा के लिए सीट जीती। उन्होंने रत्ना देवी को हराया। बाद में, 1984 में, कांग्रेस के अजय नारायण मुशरन ने परांजपे को भारी अंतर से हराकर सीट जीत ली। लेकिन 1989 में परांजपे ने मुशरन को 1 लाख से अधिक मतों से हराया। दो साल बाद, कांग्रेस ने सीट वापस ले ली जब श्रवण पटेल ने परांजपे को हराया। हालांकि, तब से बीजेपी जबलपुर में लोक सभा चुनाव नहीं हारी है। 1996 में, परांजपे ने पटेल को लगभग 70,000 मतों के अंतर से हराया। 1998 में परांजपे ने कांग्रेस उम्मीदवार डॉ. आलोक चंसोरिया को 84,000 मतों से हराया। 1999 में अगले चुनाव में, भाजपा ने जयश्री बनर्जी को मैदान में उतारा, जिन्होंने कांग्रेस के चंद्र मोहन को 1.1 लाख मतों से हराया।

2004 से राकेश सिंह के हाथ में कमान

2004 से राकेश सिंह इस सीट से जीत रहे हैं। पहले चुनाव में, उन्होंने कांग्रेस के विश्वनाथ दुबे को 99,000 मतों से हराया। 2009 में, कांग्रेस ने वरिष्ठ वकील रामेश्वर नीखरा को मैदान में उतारा, लेकिन वे 1.05 लाख वोटों से हार गए। 2014 में, सिंह ने 2.10 लाख वोटों के अंतर से जीत दर्ज की।