सर्दियों में रोज पिएं आंवला की चाय, कम वर्कआउट के बाद भी घटेगा वजन।

आंवला टी यानि कि आंवला की चाय फैट लॉस के लिए अच्छा विकल्प हो सकती है। वैसे भी आंवला सर्दियों भर अच्छी मात्रा में उपलब्ध रहता है, सिर्फ वेटलॉस ही नहीं आंवले में और भी बहुत से गुण हैं जिनका फायदा उठाया जा सकता है।

हेलथ, डेस्क रिपोर्ट। सर्दियों का एक बड़ा नुकसान ये है कि इस ठंडे मौसम में वजन बढ़ने की संभावनाएं भी बढ़ जाती हैं. इसकी कई अलग अलग वजह हो सकती हैं। एक तो सर्दी में बार बार कुछ न कुछ खाने का मन होता है, दूसरा लिहाफ या जैकेट की गर्माहट मिले तो वर्कआउट पर भी आलस हावी हो जाता है। हालांकि कुछ लोग अपनी सेहत के लिए संजीदा रहते हैं, जबकि कईयों के लिए सर्दियों में ये काम सबसे मुश्किल हो जाता है। ऐसे लोगों को जरूरत पड़ती है किसी ऐसी चीज की जो उनकी वेट लॉस की जर्नी को कायम रख सकें।

आंवला टी यानि कि आंवला की चाय इसके लिए अच्छा विकल्प हो सकती है। वैसे भी आंवला सर्दियों भर अच्छी मात्रा में उपलब्ध रहता है, सिर्फ वेटलॉस ही नहीं आंवले में और भी बहुत से गुण हैं जिनका फायदा उठाया जा सकता है।

कैसे बनाएं आंवला टी?

चाय बनाने के लिए या तो आंवला किस लें या फिर आंवले को सुखा कर उसका पाउडर बनाकर रख लें। जब भी चाय पीना हो, पानी उबलने रखें, उबाल आने पर उसमें अदरक, तुलसी के पत्ते और आंवला पाउडर डालें, चाहें तो एक चुटकी काली मिर्च भी डाल सकते हैं। कुछ देर इन्हें पानी में उबलने दें। पीने से पहले चाय को छान लें। काली मिर्च की जगह कभी कभी जीरे का भी उपयोग कर सकते हैं।

कैसे असर करेगी चाय?

आंवले में मौजूद तत्व मेटाबॉलिज्म को दुरूस्त रखते हैं। इसमें मौजूद फाइबर्स डाइजेशन भी ठीक करते हैं साथ ही कब्ज को भी दूर रखते हैं। ये गुड बैक्टीरियाज को भी बढ़ाता है। नियमित रूप से आंवला टी पीने से बॉडी डिटोक्स भी होती है।

आंवला ही क्यों?

आंवले में मौजूद गुणों से सभी वाकिफ हैं। आयुर्वेद भी आंवले की ताकत को मान ही चुका है जिसके मुताबिक ये वात और पित्त दोनों की समस्या को काफी हद तक कम करता है। आंवले के इन्हीं गुणों के चलते आयुर्वेद की कई दवाओं में भी उसका इस्तेमाल होता है। वैसे आंवले की तासीर ठंडी मानी जाती है, इसके बावजूद ये सर्दी खांसी में राहत देने वाला माना जाता है।

विटामिन सी से भरपूर

आंवले में भारी मात्रा में विटामिन सी होता है, संतरे से अगर इसकी तुलना की जाए तो आंवले में मौजूद विटामिन सी एक संतरे से आठ गुना ज्यादा होता है. एंटीऑक्सीडेंट्स भी संतरे के मुकाबले में कहीं ज्यादा होते हैं, कैल्शियम की भी ये अच्छा स्त्रोत है।

आंवले के अन्य फायदे

आंवला कई और मायनों में भी फायदेमंद है.

  • आंवले के सेवन से काफी हद तक शुगर पर कंट्रोल रखा जा सकता है.
  • आंवले का पाउडर शक्कर में मिलाकर खाने या पीने से एसिडीटी से भी राहत मिलती है. आंवले का जूस भी समान असर दिखाता है.
  • आयुर्वेद के मुताबिक पथरी की समस्या होने पर भी आंवले का जूस फायदेमंद होता है. आंवला और मूली का रस मिलाकर पीने से पथरी गलने का दावा भी किया जाता है.
  • आंवला रेड ब्लड सेल्स के निर्माण में भी सहायक है. इसके रोज नियमित सेवन से एनिमिया को दूर किया जा सकता है.
  • आंखों के लिए भी आंवला काफी फायदेमंद है. शहद और आंवला साथ लेने से आंखों की रोशनी बढ़ती है. मोतियाबिंद का खतरा भी कम होता है.
  • आंवले में मौजूद विटामिन सी त्वचा और बालों को चमकदार बनाता है. इसके पाउडर से बाल धोने से भी फायदा होता है.