पपीते का भूलकर भी सेवन न करें ये लोग, झेलना पड़ सकता है नुकसान

पोषण से भरपूर इस फल को न खाने की सलाह ही दी जाती है।

हेल्थ, डेस्क रिपोर्ट। पपीता खाने के कई फायदे हैं, पेट संबंधित रोगों में पपीता काफी फायदेमंद साबित होता है। इसके अलावा जो लोग वेट लॉस की कोशिश में जुटे हैं, उन्हें भी पपीता खाने से फायदा ही होता है। डायबीटीज, बीपी जैसी तकलीफों में भी पपीता खाना अच्छा ही होता है। हालांकि कुछ मेडिकल कंडिशन्स ऐसी होती हैं। जब पोषण से भरपूर इस फल को न खाने की सलाह ही दी जाती है।

यह भी पढ़े… Traffic Challan status: क्या गलती से कट गया चालान, आसान तरीके से करें पता

हार्टबीट अनियंत्रित हो तो

वैसे तो हार्ट पेशेंट्स को भी पपीता खाने के लिए कहा जाता है। लेकिन जिनकी हार्टबीट एक जैसी न हों यानि इरेगुलर हार्टबीट हों तो पपीते दूरी बनाए रखना ही बेहतर बताया जाता है। पपीते में साइनोजेनिक ग्लाइकोसाइड मौजूद होता है। ये एक तरह का अमीनो एसिड ही होता है। डाइजेशन के दौरान ये हाइड्रोजन सायनाइड में बदल जाता है। जो इरेगुलर हार्टबीट की समस्या को और बढ़ा सकता है।

यह भी पढ़े… भिंड : अवैध शराब की तस्करी कर रहे तीन आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

एलर्जी होने पर

जो लोग लेटेक्स नाम की एलर्जी से पीड़ित हैं, उनके लिए पपीता न खाना ही बेहतर होता है। ये एलर्जी खास किस्म के प्रोटीन की वजह से होती है। पपीते में मौजूद चिटिनेज एंजाइम की वजह से एलर्जी ज्यादा खतरनाक हो सकती है। एलर्जी से पीड़ित व्यक्ति को लगातार छींक आने लगती है या सांस लेने तक में दिक्कत हो सकी है।

यह भी पढ़े…रायपुर पुलिस ने कैसे किया कालीचरण को गिरफ्तार, जानिए मिनट to मिनट कहानी

प्रेगनेंसी में

दादी नानी से आपने अक्सर गर्भावस्था में पपीता न खाने की सलाह सुनी होगी। पपीते में कुछ ऐसे तत्व होते हैं, जो लेबर पेन इंड्यूस कर सकते हैं। इसलिए गर्भवती महिला को पपीता नहीं खाने दिया जाता। हालांकि कच्चे पपीते के बारे में ये सलाह दी जाती है। आमतौर पर गर्भवती महिलाएं पके पपीते यानि फल से भी दूरी बनाए रखती हैं।

यह भी पढ़े… CM शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के कलेक्टर-कमिश्नर को बैठक में दिए निर्देश, सतर्क रहे, युद्धस्तर पर करें तैयारी

किडनी में पथरी होने पर

किडनी में पथरी होने की पीड़ा से जूझ रहे हों तो पपीते से दूर ही रहने की सलाह मिलती है, पपीता शरीर में जाकर कैल्शियम ऑक्सलेट भी बनाता है। ये तत्व किडनी में पथरी के लिए नुकसानदायी है। इसलिए पथरी होने पर पपीता न खाना ही बेहतर होता है। हालांकि ऐसी कोई भी समस्या होने पर डॉक्टर या डाइटीशियन की सलाह लेकर ही खानपान की आदत बदलना बेहतर होगा।