गर्मियों में पड़ गई घंटो में एसी में रहने की आदत, जानिए आप हो सकते हैं किन किन रोगों के शिकार

जल्द छुड़ा लीजिए एसी में रहने की आदत, हो सकते हैं ये बड़े नुकसान

हेल्थ, डेस्क रिपोर्ट। एसी मतलब एयरकंडीशनर (AC means air conditioner) जो गर्म हवा को हटा कर उसे ठंडी हवा में बदल देता है। एक जमाना था जब गर्मी से बचने के लिए पंखे और कूलर का उपयोग किया जाता था। वह बात अब पुरानी हो गई है, अब गर्मी से निजात पाने के लिए ज्यादातर एसी का इस्तेमाल किया जाने लगा है। शुरुआत में यह केवल रईस परिवारों में पाया जाता था, लेकिन अब इसका प्रयोग मध्यमवर्गीय परिवारों में भी बढ़ा है। लोग तेज गर्मी से बचने के लिए एसी को ही ज्यादा महत्व देने लगे हैं। घर हो या मॉल, कार हो या बस हर जगह लोग एसी में नजर आते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं जिस एसी को हम इतना महत्व देते हैं वो हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना हानिकारक साबित हो सकता है? क्या आप जानते हैं इसकी ठंडी हवा हमें कई बीमारियों की चपेट में ला सकती है? तो चलिए जानते हैं एसी का ज्यादा उपयोग हमारे लिए किस तरह मुश्किल बन सकता है।

यह भी पढ़े…HURL Recruitment: निकली कई पदों पर भर्ती, कुल वैकेंसी 179, जाने डीटेल 

आंखों में जलन और खुजली
आपको ज्यादा समय तक एसी में बैठने से बचना चाहिए क्योंकि इससे आंखों में खुजली और जलन की समस्याएं हो सकती हैं। उन लोगों को खासतौर पर लंबे समय तक एसी के संपर्क में रहने से बचना चाहिए जो ड्राई आई सिंड्रोम से पीड़ित हैं यानि ऐसे लोग जिनकी आंखें सूखी हैं।

यह भी पढ़े…आ गई Amazon Prime Video की नई सुविधा, अब किराए पर फिल्में देख पाएंगे भारतीय यूजर्स, जाने डीटेल    

हड्डी से जुड़ी समस्याएं
हमारा शरीर एक सीमा तक ही ठंड को बर्दाश्त कर सकता है लेकिन एसी में सोने के दौरान हम कमरे को जरुरत से ज्यादा ठंडा कर लेते हैं और एक समय ऐसा आता है जब जरुरत से ज्यादा ठंडा होने से हमारे शरीर की हड्डियों पर बुरा असर पड़ने लगता है। इससे हड्डियों से जुड़ी समस्याएं होने लगती हैं और यही समस्याएं बाद में बीमारियों का कारण बनती हैं।

यह भी पढ़े…IRCTC आपको दे रहा जगन्नाथ रथ यात्रा में शामिल होने का मौका, यहाँ देखें स्पेशल टूर पैकेज

झुर्रिदार स्किन
जब गर्मी के कारण हमें पसीना आता है तो हम ठंडक पाने के लिए एसी को ऑन करते हैं। एसी की ठंडक से हमारा पसीना तो सूख जाता है लेकिन एसी पसीने के अलावा हमारे शरीर की नमी भी खींच लेता है। शरीर में नमी की कमी से पानी की भी कमी होने लगती है जिससे स्किन पर झुर्रियां दिखने लगती हैं। इसके साथ ही पानी की कमी से स्किन संबंधी रोग होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।

यह भी पढ़े…इन 3 घरेलू पौधों की पत्तियों का करें सेवन और हाई बीपी, ब्लड शुगर की समस्याओं से मिलेगी राहत

संक्रमण का खतरा
एसी का ज्यादा इस्तेमाल आपको वायरल संक्रमण से ग्रसित बना सकता है। एसी में सोने से आपका मुंह और नाक का रास्ता सूख सकता है जिससे वायरल संक्रमण होने का खतरा बढ़ जाता है, उसका कारण यह है कि श्लेष्मा शरीर को संक्रमण से दूर रखने के लिए एक सुरक्षात्मक परत रखता है। यदि यह एसी से परेशान हो जाता है, तो संक्रमण कुछ ही समय में शरीर को प्रभावित करेगा।

यह भी पढ़े…Tata Motors कल उठा सकता है अपनी नई इलेक्ट्रिक कार से पर्दा, जाने डीटेल

सिरदर्द
कई बार एसी वाले कमरे में बैठने से सिरदर्द की समस्या भी हो जाती है, क्योंकि जब आप एसी कमरे के बाहर होते हैं तो टेम्प्रेचर अलग होता है और जब आप कमरे के अंदर आते हैं तो टेम्प्रेचर अलग होता है। नतीजा-सिरदर्द । साथ ही एसी के लगातार संपर्क से उन लोगों में भी सिरदर्द हो सकता है जो माइग्रेन से पीड़ित हैं।

यह भी पढ़े…Jabalpur News: जबलपुर का डुमना एयरपोर्ट होगा अत्याधुनिक, सांसद राकेश सिंह ने किया निरीक्षण

सुस्ती और आलसपना
कई शोधों से यह बात सामने आई है कि जो लोग एसी के संपर्क में ज्यादा रहते हैं वे अन्य लोगों के मुकाबले ज्यादा सुस्त और आलसी होते हैं। और ये बात तो हम बरसों से सुनते आ रहे हैं कि सुस्त शरीर बीमारियों की सबसे पसंदीदा जगह होती है।

*Disclaimer :- यहाँ दी गई जानकारी अलग अलग जगह से जुटाई गई एक सामान्य जानकारी है। हमारी सलाह है कि अगर आप एयरकंडीशनर में रहते है मगर अब एसी की आदत छोड़ना चाहते है तो डॉक्टर से सलाह जरूर लें, उसके बाद ही उपयोग करें। MPBreakingnews इसकी पुष्टि नहीं करता है।