चेहरे की खूबसूरती बढ़ाने वाला मजा कहीं कैंसर का कारण तो नहीं

हमारी स्किन पर दिन भर धूल, मिटटी और प्रदूषण पड़ता रहता है फिर भी हम उसे वह केयर नहीं देते। जिसकी उसे जरुरत होती है। त्वचा पर दाग धब्बे होना आम बात है।

हेल्थ, डेस्क रिपोर्ट। मानव शरीर के सबसे बड़े अंग त्वचा के देखभाल की बहुत आवश्यकता होती है। लेकिन व्यक्ति इसी चीज पर ध्यान नहीं देतें। ज्यादातर लोग अपने चेहरे का ख्याल तो रखते हैं मगर अपनी स्किन का नहीं। हमारी स्किन पर दिन भर धूल, मिटटी और प्रदूषण पड़ता रहता है फिर भी हम उसे वह केयर नहीं देते। जिसकी उसे जरुरत होती है। त्वचा पर दाग धब्बे होना आम बात है। जिसे हम नजरअंदाज कर देते हैं, लेकिन हमे इसके प्रति सजग रहना चाहिए कहीं यह कैंसर का कारण तो नहीं है? इस लेख में हम त्वचा के आम स्थितियों के बारे में बताएंगे जिसमे स्किन टैग्स, फ्रेकल्स और मोल्स शामिल हैं।

यह भी पढ़ें – Mandi bhav: 10 अप्रैल 2022 के Today’s Mandi Bhav के लिए पढ़े सबसे विश्वसनीय खबर

1. मोल्स (तिल)
त्वचा पर होने वाली एक स्पॉट है जो काले और भूरे रंग का होता है। यह अकेले या समूहों में दिखता है। मनुष्य में 10 -40 टिल होना सामान्य प्रक्रिया है। समय के साथ तिल हट जाते हैं या अपना रंग बदल लेते हैं। कुछ तिलों में बाल भी विकसित हो जाते हैं। जबकि कुछ टिल बिलकुल भी नहीं बदलते हैं। पर आपको जानकार यह हैरानी होगी कि मोल्स कभी -कभी स्किन कैंसर का कारण भी बन जाते हैं, इसलिए यदि आपको कुछ भी अजीब लगता है, तो तुरंत इसकी जांच करवाएं।

कैंसर की पुष्टि होने पर त्वचा विशेषज्ञ उसके चारों ओर सामान्य त्वचा के एक हिस्से को काटकर घाव को बंद कर देते हैं। जोकि कुछ दिनों में सामन्य अवस्था में आ जाता है।

यह भी पढ़ें – सीएम शिवराज के अधिकारियों को निर्देश, कई जिलों के धीमे कार्य पर जताई नाराजगी, भ्रष्टाचार के खिलाफ होगी कार्रवाई

2. स्किन टैग्स
आमतौर पर आपने इसे चेहरे पर लटकते हुए देखा होगा।

यह शरीर में छाती, गर्दन, बगल, पीठ, कमर या स्तनों के नीचे के क्षेत्र में पाया जाता है। यह महिलाओं में सबसे अधिक होता है। अगर वजन बढ़ रहा है तो उस व्यक्ति में इसके लक्षण दिखने लगते हैं। इसके अलावा बुजुर्ग लोगों में भी यह पाया जाता है। स्किन टैग कपड़े, गहने, या त्वचा रगड़ने से होता हैं।
कैसे किया जा सकता है स्किन टैग्स का इलाज?

त्वचा विशेषज्ञ इसे स्केलपेल या कैंची से काटकर बंद कर देता है या फिर इलेक्ट्रोसर्जरी द्वारा जला के हटा सकता है।

यह भी पढ़ें – MP : सीएम शिवराज का सख्त रुख, अधिकारियों को निर्देश-माफिया, दुराचारी सहित चिटफंड कंपनियों पर जारी रहेगी कार्रवाई

3. फ्रेकल्स
स्किन पर इसके भूरे रंग के धब्बे होते हैं। जो कि गर्दन, छाती, चेहरे, और बाहों पर पाया जाता हैं। यह स्वास्थ्य के लिए ज्यादा खतरनाक नहीं हैं। इसका प्रभाव गर्मियों में अधिक होता है।

जेनेटिक्स और सन कॉन्टैक्ट के कारण यह रोग होता है। फ्रेकल्स की इलाज करने की आवश्यकता नहीं है। इससे बचने के लिए धूप से दूर रहें या सनस्क्रीन का उपयोग करें। यदि आपको फ्रेकल्स समस्या लगती हैं तो आप उन्हें मेकअप से कवर कर सकती हैं या लिकुइड नाइट्रोजन ट्रीटमेंट पर विचार कर सकती हैं।