कनाडा में रहने वाले भारतीयों को सतर्क रहने की सलाह, जानिए क्यों

भारत विदेश मंत्रालय ने कनाडा में रहने वाले भारतीय छात्रों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। बता दें कि इन दिनों कनाडा में हेट क्राइम, सांप्रदायिक हिंसा

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट | भारत विदेश मंत्रालय ने कनाडा में रहने वाले भारतीय छात्रों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। बता दें कि इन दिनों कनाडा में हेट क्राइम, सांप्रदायिक हिंसा, भारत विरोधी गतिविधियों की घटनाएं तेजी से बढ़ रही है। जिसे लेकर भारतीय विदेश मंत्रालय ने नई एडवाइजरी जारी की है। जिसमें सभी भारतीयों को सतर्क रहने की सलाह दी है कि वे सावधानी बरतें और सतर्क रहें। तो आइए जानते हैं क्या है पूरा मामला…

कनाडा में रहने वाले भारतीयों को सतर्क रहने की सलाह, जानिए क्यों

यह भी पढ़ें – बाबा रे बाबा…आखिर पंडित प्रदीप मिश्रा की किस बात पर हो रहा है इतना बवाल, पढ़े यहां

दरअसल, साल 2021 में कनाडा में सिख धर्म के युवक की हत्या कर दी गई थी। तब से कनाडा में सांप्रदायिकता के नाम पर लोगों के बीच मनमुटाव हो गया है। बता दें कि जिस युवक की हत्या की गई थी वो साल 2017 में कनाडा पढ़ाई करने गया था। जहां वो टैक्सी चलाने के साथ ही एक रेस्टोरेंट में पार्ट टाइम जॉब करता था। लेकिन अफसोस की बात तो यह है कि वो महज 23 साल की उम्र में सांप्रदियकता का शिकार हो गया। केवल इतना ही नहीं कनाडा में भारत के राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा, विष्णु भगवान की प्रतिमा के साथ-साथ हमारी रक्षा करने वाले बजरंग बलि की प्रतिमा के साथ भी तोड़फोड़ की गई। जिसके बाद वहां रहने वाले भारतीय नागरिकों में आक्रोश उतपन्न हो उठा। जिससे वहां पर धर्म के नाम पर आए दिन कोई-ना-कोई हमले होते रहते हैं।

यह भी पढ़ें – कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, प्रमोशन के नियमों में बदलाव! अब इस तरह मिलेगा लाभ,आदेश जारी

बता दें कि संप्रदाय का अर्थ है दूसरे समुदाय के लोगों के प्रति सांस्कृतिक और धार्मिक भाषा के आधार पर उनसे घृणा  रखना होता है। जिससे राष्ट्रीय हितों को काफी नुकसान होता है। जो कि लोकतंत्र के लिए काफी हानिकारक माना जाता है। जिससे लोग आपस में ही एक-दूसरे से लड़ने-भिड़ने पर उतारु हो जाते हैं। जिससे सरकारी संपत्ति का भी नुकसान होता है। जिसका नतीजा हमेशा नुकसानदायक ही होता है।

यह भी पढ़ें – कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, प्रमोशन के नियमों में बदलाव! अब इस तरह मिलेगा लाभ,आदेश जारी

सांप्रदायिकता शब्द अपने आप में बहुत ही भयानक होता है क्योंकि इसमें एक धर्म, दूसरे धर्म की बुराई करता है। जिससे अनिवार्य रूप से राष्ट्रीय हितों को नुकसान पहुंचता है। लोग एक मुल्क में जरुर रहते हैं लेकिन, लोगों में आपसी मनमुटाव, तनाव या फिर विवाद होता रहता है। जिससे आए दिन बड़े-बड़े दंगे-फसाद जैसी स्थिति बनी रहती है। देश में अशांति का माहौल बना रहता है। कई बार इसका फायदा बाहरी देश के लोग उठा ले जाते है। जिसका नुकसान लोगों के साथ-साथ पुलिस बल समेत राजनेताओं को भी झेलना पड़ता है। जिस से बचने के लिए लोगों का आपसी तनाव खत्म करना और सांप्रदायिकता को बढ़ावा देने पर रोक लगाने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें – Rashifal 24 September 2022 : मिथुन सिंह तुला वृश्चिक के लिए पदोन्नति, धन, उत्तम स्वास्थ्य के योग, मेष कर्क मीन रखें विशेष ध्यान, जानें 12 राशियों का भविष्यफल