पाकिस्तान में क्यूं कोई प्रधानमंत्री नहीं कर पाता 5 साल पूरे, वजह जान उड़ जाएंगे होश

प्रस्ताव को सफल होने के लिए विपक्ष को 172 वोटों की आवश्यकता है। खान ने विपक्ष पर उन्हें हटाने के लिए "विदेशी शक्तियों" के साथ साजिश करने का आरोप लगाया है क्योंकि वह रूस और चीन के खिलाफ वैश्विक मुद्दों पर पश्चिम का पक्ष नहीं ले रहे हैं।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। पाकिस्तान के विपक्ष के एक सदस्य ने इमरान खान को प्रधानमंत्री पद से हटाने के लिए अविश्वास प्रस्ताव सत्र से पहले रविवार को नेशनल असेंबली के अध्यक्ष असद कैसर को एक प्रस्ताव पेश किया है। नेशनल असेंबली सचिवालय के सचिव को संबोधित करते हुए पीएमएल-एन के मुर्तजा जावेद अब्बासी द्वारा प्रस्तुत किया गया है जिसमे सौ से अधिक सांसदों के हस्ताक्षर है।

यह भी पढ़ें – महेंद्र सिंह धोनी सबसे ज्यादा T20 मैच खेलने वाले दूसरे भारतीय क्रिकेटर है तो पहले पायदान पर कौन हैं?

पीपीपी अध्यक्ष बिलावल भुट्टो-जरदारी, ने ट्विटर पर संकल्प की एक तस्वीर भी साझा की है। राजनीतिक उथल-पुथल और अविश्वास प्रस्ताव के बाद इमरान खान को पद से हटाए जाने की संभावना है। बता दें पाकिस्तान के किसी भी प्रधान मंत्री ने कभी भी अपना पूर्ण कार्यकाल पूरा नहीं किया है, और खान 2018 में चुने जाने के बाद से अपने शासन के लिए सबसे बड़ी चुनौती का सामना कर रहे हैं, विरोधियों ने उन पर आर्थिक कुप्रबंधन और विदेश नीति में गड़बड़ी का आरोप लगाया है।

यह भी पढ़ें – Lifestyle: आखिर क्यूं होते हैं चेहरे और शरीर पर मस्से, जानें इससे जुड़ी पूरी जानकारी

आपको यह जानकर हैरानी होगी कि पाकिस्तान के इतिहास में अभी तक किसी भी प्रधानमंत्री ने अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं किया है। पाकिस्तान के पहले प्रधानमंत्री लियाकत अली खान जो कि अपना 5 साल का कार्यकाल पूरा कर सकते थे, लेकिन उनकी भी हत्या कर दी गई थी। जबकि अन्य प्रधानमंत्रियों को सरकार भंग होने या फिर मार्शल कानून के चलते अपना पद त्यागना पड़ा था। अब ठीक वही समस्या इमरान खान के साथ खड़ी है हो सकता है कि कल संसद में होने वाली वोटिंग के बाद इमरान खान को भी अपने पद से हटना पड़े।

यह भी पढ़ें – Jabalpur News: तेज रफ्तार कार ने मारी टक्कर, युवा किसान की दर्दनाक मौत

शनिवार को इमरान खान द्वारा समर्थकों को सड़कों पर ले जाने का आह्वान करने के बाद अधिकारियों ने राजधानी में नेशनल असेंबली के चारों ओर स्टील का एक गहराव स्थापित किया है। साथ ही सड़कों को अवरुद्ध करने के लिए शिपिंग कंटेनरों का उपयोग किया है। उनकी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी (पीटीआई) ने पिछले हफ्ते 342 सदस्यीय विधानसभा में प्रभावी रूप से अपना बहुमत खो दिया था।

यह भी पढ़ें – Neemuch News: बिगड़ती कानून व्यवस्था और लव जिहाद मामले में लोगों ने विहिप के बंद का समर्थन किया

प्रस्ताव को सफल होने के लिए विपक्ष को 172 वोटों की आवश्यकता है। खान ने विपक्ष पर उन्हें हटाने के लिए “विदेशी शक्तियों” के साथ साजिश करने का आरोप लगाया है क्योंकि वह रूस और चीन के खिलाफ वैश्विक मुद्दों पर पश्चिम का पक्ष नहीं ले रहे हैं। इससे पहले हफ्ते की शुरुआत में उन्होंने अमेरिका पर पाकिस्तान के मामलों में दखल देने का आरोप लगाया था। विपक्ष का नेतृत्व पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन (पीएमएल-एन) और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) करते हैं – दो आम तौर पर सामंती वंशवादी समूह जो दशकों तक राष्ट्रीय राजनीति पर हावी रहे, जब तक कि खान ने उनके खिलाफ गठबंधन नहीं बनाया।

यह भी पढ़ें – New Bike launch स्पोर्ट्स बाइक के शौकीन युवाओं के लिए Yamaha लांच करने जा रहा MT 15, जाने इसकी खासियत

अगर खान पद से हटाए जाते हैं, तो पीएमएल-एन के शहबाज शरीफ के अगले प्रधानमंत्री बनने की संभावना है। शरीफ तीन बार के प्रधान मंत्री नवाज शरीफ के छोटे भाई हैं, जिन्हें 2017 में हटा दिया गया था और भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में डाल दिया गया था, लेकिन वर्तमान में चिकित्सा उपचार के लिए जेल से रिहा होने के बाद ब्रिटेन में है।