श्रीलंका में हालात और भी बदतर, 700 रु. का चावल, 200 रु. पार हुए आलू-प्याज

दो करोड़ की आबादी वाले देश में में चावल की कीमत 450 रुपये से लेकर 700 रुपये के बीच है, जबकि श्रीलंका चावलों के बड़े निर्यातकों में से एक है। लेकिन फिलहाल देश को चावल आयत करना पड़ रहा है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। श्रीलंका में आर्थिक संकट के चलते मची सियासी हलचल के बीच रोज उपयोग की जाने वाली वस्तुओं के दामों में कमाल का उछाल आया है। खाद्य वस्तुओं की कीमतों ने तो महंगाई की सारी हदें पार कर दी है। देश की जनता अभी कुछ दिन पहले, जहां पेट्रोल-डीजल के रेट बढ़ने के कारण साइकिल और पैदल चलने के लिए मजबूर हो गई थी तो वहीं अब राशन के दाम बढ़ने से अब खाना-पीना में दुश्वार हो गया है।

यहां मिल रहे चावल, दाल, नारियल तेल, आदि के रेट जानकर आपके होश उड़ जाएंगे। तो आइये एक नजर डालते है, यहां के राशन की वस्तुओं पर –

दो करोड़ की आबादी वाले देश में में चावल की कीमत 450 रुपये से लेकर 700 रुपये के बीच है, जबकि श्रीलंका चावलों के बड़े निर्यातकों में से एक है। लेकिन फिलहाल देश को चावल आयत करना पड़ रहा है।

ये भी पढ़े … मैनचेस्टर यूनाइटेड छोड़ेंगे क्रिस्टियानो रोनाल्डो!, दुबई के क्लब ने दिया 2400 करोड़ को ऑफर

दुनिया में नारियल के सबसे बड़े उत्पादकों में से एक श्रीलंका में फिलहाल नारियल के एक नग की कीमत 85 से 100 रूपये के बीच, जबकि नारियल तेल 600 रुपये से 1000 रुपये प्रति लीटर के बीच बिक रहा है।

सब्जियों की बात करे तो, देश में आलू-प्याज की कीमत 220 रुपये किलो है, जबकि लहसुन भी 170 रुपये में सिर्फ 250 ग्राम ही मिल रहा है।

ये है दालों का हाल –

मूंग दाल 1,240 प्रति किलो
राजमा 925 रुपये प्रति किलो तक
मसूर की दाल 500 से लेकर 600 रुपये प्रति किलो
पॉपकॉर्न 760 रुपये प्रति किलो तक
काबुली चना 800 रुपये प्रति किलो तक
हरा मूंग 850 रुपये
लाल राजमा 700 रुपये
काला चना 630 रुपये प्रति किलो तक
मटर की दाल 500 रुपये प्रति किलो
चना दाल की कीमत 500 प्रति किलो तक
हरा मटर 355 रुपये
मूंगफली दाना 760 रुपये
उड़द की दाल 850 रुपये प्रति किलो तक
अरहर की दाल 890 रुपये प्रति किलो तक

ये भी पढ़े … मस्क के पिता का बड़ा खुलासा, दुनिया के सबसे अमीर शख्स है तीन साल के बच्चे के भाई

आपको बता दे, राशन की ये कीमतें श्रीलंका की थोक मंडी के भाव के अनुसार है। जानकारी के मुताबिक, दुकानों पर इनकी कीमतें 10-20 प्रतिशत ज्यादा है।