सूर्य के सबसे निकट बुध ग्रह की सतह पर दिखे रहस्यमई गड्ढे, तस्वीर आई सामने

सूर्य की सतह के सबसे पास बुध ग्रह पर MCAM ने खोजी कुछ ऐसी तस्वीरें की देखने वाले वैज्ञानिक भी रह गये दंग।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। 23 जून 2022 को 09:44 यूटीसी (UTC), (11:44 CEST) पर सूर्य का सबसे निकटतम चित्र प्राप्त हुआ, जो ग्रह की सतह से लगभग 200 किमी ऊपर है। चित्र लेने के दौरान अंतरिक्ष यान के तीन निगरानी कैमरों MCAM (एमसीएएम) के साथ-साथ कई उपकरणों से वैज्ञानिक डेटा (DATA) एकत्र किए गए थे। MCAM के द्वारा लिए गये चित्र, जो 1024 x 1024 पिक्सेल रिज़ॉल्यूशन में ब्लैक एंड वाइट स्नैपशॉट देते हैं, प्राप्त हुए हैं।

कल दोपहर के तक डाउनलोड की गईं तस्वीरें सूर्य के सबसे निकटतम ग्रह की छवि बताती हैं और एक सिलेक्टेड रिव्यु यहां प्रस्तुत करती है।

यह भी पढ़ें – Thiomargarita magnifica : अब तक के सबसे बड़े बैक्टीरिया की हुई खोज, बिना माइक्रोस्कोप के भी आएगा नज़र

ईएसए (ESA) के बेपीकोलंबो डिप्टी स्पेसक्राफ्ट ऑपरेशंस मैनेजर इमानुएल बोर्डोनी कहते हैं, कि “हमने six मर्करी फ्लाईबाई में से अपना दूसरा चरण पूरा कर लिया है और 2025 में मर्करी ऑर्बिट में पहुंचने से पहले इस बार अगले साल अपने तीसरे चरण के लिए वापस शुरुवात करेंगे।”

अब तक की प्राप्त तस्वीरों से बताया गया है कि ‘हेनी नाम का एक 125 किमी चौड़ा गड्ढा पाया गया है, जो चिकने ज्वालामुखी मैदानों से ढका है। यह बुध पर एक अनुमानित ज्वालामुखी हो सकता है जो कि एक दुर्लभ उदाहरण बन सकता है, अगली खोज और शोध के लिए’।  यह एक महत्वपूर्ण खोज बताई गयी है।

यह भी पढ़ें – Government Job 2022 : केंद्रीय आयुर्वेदिक विज्ञान अनुसंधान परिषद में निकली है भर्ती, जानें आयु-पात्रता

सबसे नजदीकी तस्वीरें बताती हैं जो कि सूर्य के चमकने के साथ कुछ ही मिनटों के बाद, बुध की सबसे बड़ी तस्वीर है, जिसमे बुध की सतह पर लगभग 1550 किमी-चौड़ा कैलोरिस बेसिन पहली बार दिखाई दिया, इसके फर्श पर उबलता लावा उस भाग को रोशन कर रहा है। माना जाता है कि कैलोरिस में और उसके आस-पास ज्वालामुखीय लावे को बेसिन के गठन के बाद से लगभग सौ मिलियन वर्ष या उससे भी अधिक समय का माना जा रहा हैं, और इन सबके बीच इनकी बनावट को लेकर चल रहे मतभेदों को मापना और समझना BepiColombo के लिए एक महत्वपूर्ण लक्ष्य होगा।