मोटापे से परेशान खाने की शौकीन बिल्ली

एक थी कबरी बिल्ली, जिसने रामू की बहू की नाक में दम कर रखा था। कबरी बिल्ली को खाने से इतना प्यार था कि वो हर उस चीज़ पर अपना मुंह डाल देती जो रामू की बहू बड़े प्यार से अपने घरवालों के लिए बनाती थी। भगवतीशरण वर्मा की ये प्रसिद्ध कहानी स्कूल में ही हम सबने पढ़ी थी और तभी जान लिया था कि बिल्लियों को खाने से कितना प्रेम है। अब बिल्ली चाहे रामू की बहू के घर वाली हो या ब्रिटेन की..भोजन प्रेम तो सभी का एक सा होता है। तो आज हम आपको मिलाते हैं एक विलायती बिल्ली से।

 ब्रिटेन की इस चार साल की बिल्ली पेस्ले को जब कैट्स प्रोटेक्शन सेंटर लाया गया तो सभी उसे देखकर हैरत में पड़ गए। इस नन्ही उम्र में पेस्ले का वज़न साढ़े नौ किलो है जो सामान्य बिल्लियों की तुलना में दुगुना है। खाने की शौकीन ये बिल्ली इतनी मोटी हो गई कि न न तो ठीक से बैठ पाती न ही कोई और काम कर पाती।

 पेस्ले को उसके मालिक वेस्ट ससेक्स कैट्स प्रोटेक्शन सेंटर में छोड़ गए थे क्योंकि उसके वज़न के कारण उनके घर में उसकी देखभाल करना मुश्किल हो गया था। कैट्स प्रोटेक्शन सेंटर के हवाले होने के बाद अब यहां के कर्मचारियों ने उसका डाइट कंट्रोल और खास तरह का खाना देना शुरू किया है। यहां लोगों का कहना है कि सालों से उन्होने इतनी मोटी बिल्ली नहीं देखी, और उसके मोटापे की वजह ठूंस-ठूंसकर खाना ही है। इस मोटापे के कारण जहां पेस्ले को चलने फिरने में दिक्कत होने लगी वहीं कई बीमारियों की आशंका भी बढ़ गई थी। अब सेंटर में उसकी सही तरह से देखभाल हो रही है जिसके बाद उम्मीद है कि पेस्ले बहुत जल्द शेप में आ जाएगी और बाकि बिल्लियों के साथ कैट वॉक कर सकेगी।