असम राइफल्स ने शुरु की भर्ती प्रक्रिया, जल्दी करें अप्लाई, जानें योग्यता और आयु-पात्रता

Assam Rifles Recruitment

Assam Rifles Recruitment: सेना में जाने की तैयारी करने वाले युवाओं के लिए सुनहरा मौका है। असम राइफल्स की तरफ से टेक्निकल और ट्रेड्समैन भर्ती के लिए ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया 21 अक्टूबर से शुरु हो चुकी है। इच्छुक एवं योग्य उम्मीदवार असम राइफल्स की आधिकारिक वेबसाइट assamrifles.gov.in पर जाकर आवेदन कर सकते हैं। ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया 19 नवंबर 2023 तक चलेगी।

कुल पद- 161

योग्यता

असम राइफल्स की तरफ से जारी भर्ती प्रक्रिया के लिए आवेदन करने वाले उम्मीदवारों के पास किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से हाइस्कूल और इंटरमीडिएट की डिग्री होनी चाहिए। साथ ही आईटीआई की भी डिग्री होनी चाहिए।

आयु-पात्रता

न्यूनतम आयु- 18 साल

अधिकतम आयु- 23 साल

साथ ही आरक्षित श्रेणी के उम्मीदवारों को आयु सीमा में छूट प्रदान की जाएगी। अधिक जानकारी के लिए उम्मीदवार असम राइफल्स द्वारा जारी अधिसूचना को पढ़ लें।

चयन प्रक्रिया

असम राइफल्स में आवेदन करने वाले उम्मीदवारों का चयन पीईटी/पीएमटी, स्किल टेस्ट/ ट्रेड टेस्ट, लिखित परीक्षा, डाक्यूमेंट्स वेरिफेकशन और मेडिकल टेस्ट चरणों के जरिए होगा।

आवेदन शुल्क

असम राइफल्स की तरफ से शुरु सभी श्रेणी समूह बी पदों के लिए 200 रुपए आवेदन शुल्क निर्धारित की गई है। जबकि सभी श्रेणी समूह सी पदों के लिए 100 रुपए आवेदन शुल्क निर्धारित की गई है। वहीं एससी, एसटी, महिला, भूतपूर्व सैनिक उम्मीदवारों को आवेदन शुल्क का भुगतान करने के लिए छूट दिया गया है।

वेतन

असम राइफल्स द्वारा शुरु भर्ती प्रक्रिया में चयन हुए अभ्यर्थियों को 18,000 रुपए से लेकर 69,100 रुपए के बीच वेतन मिलेगा।

 


About Author
Shashank Baranwal

Shashank Baranwal

पत्रकारिता उन चुनिंदा पेशों में से है जो समाज को सार्थक रूप देने में सक्षम है। पत्रकार जितना ज्यादा अपने काम के प्रति ईमानदार होगा पत्रकारिता उतनी ही ज्यादा प्रखर और प्रभावकारी होगी। पत्रकारिता एक ऐसा क्षेत्र है जिसके जरिये हम मज़लूमों, शोषितों या वो लोग जो हाशिये पर है उनकी आवाज आसानी से उठा सकते हैं। पत्रकार समाज मे उतनी ही अहम भूमिका निभाता है जितना एक साहित्यकार, समाज विचारक। ये तीनों ही पुराने पूर्वाग्रह को तोड़ते हैं और अवचेतन समाज में चेतना जागृत करने का काम करते हैं। मशहूर शायर अकबर इलाहाबादी ने अपने इस शेर में बहुत सही तरीके से पत्रकारिता की भूमिका की बात कही है– खींचो न कमानों को न तलवार निकालो जब तोप मुक़ाबिल हो तो अख़बार निकालो मैं भी एक कलम का सिपाही हूँ और पत्रकारिता से जुड़ा हुआ हूँ। मुझे साहित्य में भी रुचि है । मैं एक समतामूलक समाज बनाने के लिये तत्पर हूँ।

Other Latest News