MPPSC: उम्मीदवारों के लिए बड़ी खबर, राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2019 पर ताजा अपडेट, फिर बनेगा नया रिजल्ट

इसके तहत अब राज्यसेवा भर्ती नियम-2015 को लागू कर नया रिजल्ट तैयार किया जाएगा, ऐसे में पुराने परिणाम के आधार पर हो चुकी मुख्य परीक्षा पर भी संकट गहरा गया है।

MPPSC Exam 2022

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश लोकसेवा आयोग के उम्मीदवारों के लिए बड़ी खबर है। एक तरफ कुल 577 पदों के लिए राज्यसेवा मुख्य परीक्षा 2019 के फिर से आयोजित करने की अटकलें है, इस संबंध पीएससी ने ऐसे संकेत दिए हैं। वही दूसरी तरफ राज्यसेवा प्रारंभिक भर्ती परीक्षा-2019 आरक्षण के फेर में उलझ गई है।जबलपुर हाईकोर्ट के आदेश के बाद अब राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2019 का रिजल्ट फिर से जारी किया जाएगा, ऐसे में संभावना है कि राज्य सेवा मुख्य परीक्षा 2019 दोबारा से आयोजित की जा सकती है, इसके तहत 577 पदों पर भर्ती होनी है।

यह भी पढ़े.. MP Weather: एक साथ 7 सिस्टम एक्टिव, 28 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी, मौसम विभाग ने जारी किया ऑरेंज-येलो अलर्ट

दरअसल,राज्यसेवा परीक्षा 2019 की प्रारंभिक परीक्षा जनवरी 2020 में आयोजित की गई थी और दिसंबर 2020 में इसके परिणाम जारी हुए थे, इसी आधार पर मार्च 2021 में मुख्य परीक्षा आयोजित की गई थी और फिर इसके परिणाम जारी होने के इंटरव्यू के लिए चयनित उम्मीदवारों की सूची भी घोषित गई, लेकिन जबलपुर हाईकोर्ट के आदेश के बाद अब पीएससी को प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट नए नियमों के अनुसार बनाना पड़ेगा।हाई कोर्ट ने पुराने भर्ती नियम यानी राज्यसेवा नियम 2015 के हिसाब से रिजल्ट को संशोधित कर जारी करने आदेश दिया है।

इसके तहत अब राज्यसेवा भर्ती नियम-2015 को लागू कर नया रिजल्ट तैयार किया जाएगा, ऐसे में पुराने परिणाम के आधार पर हो चुकी मुख्य परीक्षा पर भी संकट गहरा गया है। प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट बदलने से मुख्य परीक्षा के सफल उम्मीदवारों की पुरानी सूची में भी बदलाव होगी जिससे कई उम्मीदवार अंदर तो कई बाहर हो सकते है। इधर, संशोधित रिजल्ट जारी करने से पहले अब पीएससी को ओबीसी आरक्षण के लंबित मामले पर अंतिम निर्णय का इंतजार है, ताकी रिजल्ट में बदलाव ना करना पड़े।

यह भी पढ़े.. हजारों पेंशनरों के लिए अच्छी खबर, पोर्टल पर डाटा अपलोड, जल्द खाते में आएगी पेंशन राशि

सूत्रों की मानें तो राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा-2019 का आयोजन सरकार के आदेश अनुसार आरक्षण के नए नियम के आधार पर किया गया। इसमें आरक्षित वर्ग को आरक्षित सीटों पर ही मौका दिया लेकिन मेरिट के बेस पर अनारक्षित सीट नहीं दी गई, ऐसे में मामला हाई कोर्ट में पहुंच गया और 7 अप्रैल को हाईकोर्ट ने राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2015 के आधार पर राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2019 का रिजल्ट घोषित करने के आदेश दिए। हाईकोर्ट के आदेश के अनुसार प्रारंभिक परीक्षा 2019 का रिजल्ट घोषित किया जाएगा और फिर उसके आधार पर मुख्य परीक्षा का आयोजन एक बार फिर किया जाएगा। कुल मिलाकर एमपीपीएससी 2019 पर संकट मंडरा रहा है।