नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा में निकली कई पदों पर भर्ती, 4 दिसंबर तक करें अप्लाई, जानें पात्रता और नियम

secl recruitment

NSD Recruitment 2023: मिनिस्ट्री ऑफ़ कल्चर के अंतर्गत आने वाले नेशनल स्कूल ड्रामा ने विभिन्न पदों पर भर्ती निकली है। इच्छुक उम्मीदवार 4 दिसंबर 2023 तक आवेदन कर सकते हैं। विभिन्न पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया भी अलग-अलग निर्धारित की गई है। अपर डिवीजन क्लर्क, अस्सिटेंट रजिस्ट्रार, स्टेट मैनेजर, जूनियर हिंदी ट्रांसलेटर समेत कई पदों पर भर्ती होगी।

पात्रता

अप्पर डिविजन क्लर्क के लिए तीन पद रिक्त हैं। रिक्त पदों की कुल संख्या 9 है। अप्पर डिविजन क्लर्क के लिए तीन पद रिक्त हैं। अस्सिटेंट रजिस्टार के पद स्नातक पास उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। 5 वर्ष का अनुभव भी संबंधित क्षेत्र में होना अनिवार्य है अधिकतम आयु सीमा 35 वर्ष है। पे लेवल 7 के तहत लेकर 44900 रुपये से लेकर 142400 रुपये तक की सैलरी दी जाएगी। स्टेज मैनेजर और यूडीसी पद पर भी स्नातक पास उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। स्टेज मैनेजर और असिस्टेंट रजिस्ट्रार पद पर आवेदन करने के लिए अधिकतम आयु सीमा 35 वर्ष है। वहीं अन्य पदों पर अप्लाई करने के लिए आयु सीमा अधिकतम 30 वर्ष है। सरकारी नियमों के तहत एससी, एसटी और ओबीसी कैटेगरी के कैंडिडेट्स को छूट भी दी जाएगी। अतिरिक्त जानकारी के लिए आधिकारिक अधिसूचना देखने की सलाह दी जाती है। (Official Notification Link )

आवेदन

अस्सिटेंट रजिस्ट्रार, जूनियर हिंदी ट्रांसलेटर और स्टेट मैनेजर के पद पर 26 नवंबर से 2 नवंबर तक आवेदन किया जा सकता है। आवेदन करने के लिए 500 रुपये शुल्क का भुगतान करना होगा। ओबीसी/एससी/एसटी/ पीडब्ल्यूडी महिला उम्मीदवारों उम्मीदवारों को 250 रुपये एप्लीकेशन फीस का भुगतान करना होगा। आवेदन करने के लिए ऑफिशियल वेबसाइट https://recruitment.nsd.gov.in/ पर जाएं और “Apply Online” पर क्लिक करें।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News