Sarkari Naukari: नगर सैनिक के 2215 पदों पर निकली भर्ती, अधिसूचना जारी, 10 जुलाई से आवेदन शुरू, जानें पात्रता और वेतन

छत्तीसगढ़ में होमगार्ड के 2000 से अधिक पदों पर भर्ती निकली है। आवेदन प्रक्रिया 10 जुलाई से लेकर 10 अगस्त तक जारी रहेगी।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
job

Sarkari Naukari 2024: छत्तीसगढ़ में नगर सैनिकों के पदों पर भर्ती (Chhattisgarh Homeguard Recruitment) के लिए नोटिफिकेशन जारी हो चुका है। आवेदन प्रक्रिया 10 जुलाई 2024 से शुरू होगी। इच्छुक उम्मीदवार ऑनलाइन ऑफिशल वेबसाइट http://firenoc.cg.gov.in पर जाकर 10 अगस्त 2024 तक आवेदन कर पाएंगे। करेक्शन विंडो  17 अगस्त 2024 को खुलेगा। रिक्त पदों की संख्या कुल 2215 है, जिसमें से 500 पद जनरल ड्यूटी और 1715 पद महिला होमगार्ड के लिए खाली हैं।

योग्यता

12वीं पास जनरल/ओबीसी/एससी उम्मीदवार आवेदन कर सकते हैं। एससी कैटेगरी के लिए उम्मीदवारों का आठवीं पास होना अनिवार्य है। आत्मसमर्पित या नक्सल ग्रसित क्षेत्र के जनरल/ओबीसी/एससी कैटेगरी के उम्मीदवारों 8वीं पास होना जरूरी हैं। एससी वर्ग के उम्मीदवारों का पांचवी पास होना अनिवार्य है। उम्मीदवारों को संबंधित जिले का मूल निवासी होना चाहिए। साथ ही उनका राज्य के किसी भी जिला रोजगार कार्यालय में जीवित पंजीयन होना जरूरी है। आचरण भी अच्छा होना चाहिए।

आयु सीमा 

उम्मीदवारों की आयु 1 जुलाई 2024 को न्यूनतम 19 वर्ष और अधिकतम 40 वर्ष होनी चाहिए। आत्मसमर्पित या नक्सल पीड़ित क्षेत्र के व्यक्ति या उनके परिवार के सदस्य को नगर सैनिक के पद पर नियुक्ति के लिए अधिकतम आयु सीमा 45 वर्ष निर्धारित की गई है।

चयन प्रक्रिया और वेतन

उम्मीदवारों का चयन लिखित परीक्षा और शारीरिक दक्षता परीक्षा के आधार पर किया जाएगा। शारीरिक प्रवीणता टेस्ट 120 अंक, लिखित परीक्षा 120 अंक और बोनस अंक 20 कुल मिलाकर 220 अंकों के आधार पर उम्मीदवारों को शॉर्ट लिस्ट किया जाएगा। नियुक्ति के बाद 12,700 रुपए से लेकर 18,900 रुपए तक वेतन प्रतिमाह दिया जाएगा।

ऐसे करें आवेदन

chhattisgarh homeguard recruitment

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News