SSC Exam 2023: कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया महत्वपूर्ण नोटिस, बदल गए इस परीक्षा के नियम, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Published on -
ssc recruitment

SSC Exam 2023: 24 अगस्त, गुरुवार को कर्मचारी चयन आयोग (Staff Selection Commision) ने महत्वपूर्ण नोटिस जारी किया है। जिसमें दिल्ली पुलिस और CAPF एसआई भर्ती परीक्षा के नियमों में बदलाव की घोषणा की गई है। आयोग ने पेपर-1 और पेपर-2 के नेगेटिव मार्किंग क्राइटेरिया के नियमों में बड़ा संशोधन किया है।

क्या हैं नए नियम ?

नए नियमों के तहत अब गलत जवाब पर पहले से कम पैनल्टी लगेगी। दोनों ही पेपर्स में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/4 अंक काटा जाएगा। बता दें कि 22 जुलाई को जारी अधिसूचना के मुताबिक इस परीक्षा में गलत उत्तर पर 1/3 अंक काटने की बात कही गई थी।

1800 से अधिक पदों पर होगी भर्ती

इस बार दिल्ली पुलिस और सीएपीएफ में सब-इंस्पेक्टर (SI) पदों के लिए 1876 वैकेंसी हैं। भर्ती के लिए 22 जुलाई से आवेदन शुरू हुए थे। रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि 15 अगस्त थी। 16 और 17 अगस्त को करेक्शन विंडो खोला गया था।

परीक्षा का पैटर्न

अकटूबर में परीक्षा का आयोजन हो सकता है। तीन चरणों में एग्जाम आयोजित होंगे। प्रथम चरण में मल्टीपल च्वाइस प्रश्न (MCQ) प्रश्न पूछे जाएंगे। पेपर-1 पास करने वाले अभ्यर्थियों को शारीरिक दक्षता परीक्षा/शारीरिक मानक परीक्षा के लिए बुलाया जाएगा। चयनित उम्मीदवार ही पेपर-2 शामिल हो पाएंगे। जिसके बाद मेडिकल टेस्ट और डॉक्यूमेंट वेरीफिकेशन होगा। उम्मीदवार परीक्षा से संबंधित अपडेट्स के लिए ऑफिशियल वेबसाइट ssc.nic.in पर विजिट करते रहें।

SSC Exam 2023: कर्मचारी चयन आयोग ने जारी किया महत्वपूर्ण नोटिस, बदल गए इस परीक्षा के नियम, पढ़ें पूरी खबर


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News