UPSSSC: 2693 पदों पर निकली है भर्ती, 3 अगस्त से शुरू होंगे आवेदन, जानें आयु-पात्रता

उम्मीदवारों की उम्र 21 वर्ष से 40 वर्ष के बीच होना चाहिए। इसकी गणना एक जुलाई 2022 से की जाएगी। 

up nhm recruitment 2022

लखनऊ, डेस्क रिपोर्ट। उत्तर प्रदेश में सरकारी नौकरी पाने का सुनहरा मौका है। यूपी अधीनस्थ सेवा चयन आयोग , लखनऊ ने मुख्य सेविका के 2693 पदों पर भर्ती के लिए नोटिफिकेशन जारी किया है। आवेदन की प्रक्रिया 3 अगस्त से शुरू होगी। शुल्क समायोजन एवं आवेदन में संशोधन की अंतिम तिथि 31 अगस्त रखी गई है। यह पद केवल महिलाओं के लिए है। आवेदन पत्र ऑनलाइन http://upsssc.gov.in पर ही स्वीकार किए जाएंगे। यूपीएसएसएससी की इस भर्ती में आवेदन के लिए योग्य महिला अभ्यर्थी मुख्य सेविका भर्ती मुख्य परीक्षा के लिए अगले महीने आवेदन कर सकेंगी।

UPSSSC Recruitment 2022

कुल पद- 2693

पदों का विवऱण

  • 1079 अनारक्षित वर्ग।
  • 565 अनुसूचित जाति।
  • 53 अनुसूचित जनजाति।
  • 727 ओबीसी।
  • 269 आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए हैं।

आयु सीमा- उम्मीदवारों की उम्र 21 वर्ष से 40 वर्ष के बीच होना चाहिए। इसकी गणना एक जुलाई 2022 से की जाएगी।

योग्यता- आवेदक के पास किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से समाज शास्त्र / समाज कार्य / गृह विज्ञान / पोषण / बाल विकास के साथ आर्ट्स में ग्रेजुएशन होना चाहिए।

वेतनमान- इस भर्ती के लिए सैलरी 5200 – 20500/- रुपये तय की गई है।

चयन प्रक्रिया- उम्मीदवारों का चयन डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन, योग्यता / रिटन एग्जाम और इंटरव्यू के आधार पर किया जायेगा।

आवेदन शुल्क- उम्मीदवारों को 25/- रुपये आवेदन शुल्क देना होगा।

जरूरी डॉक्यूमेंट्स- योग्यता प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड, जाति प्रमाण पत्र, निवास प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र,रोजगार कार्यालय का पंजीयन प्रमाण पत्र

आवेदन शुल्क- ऑनलाइन आवेदन शुल्क सभी वर्गों के लिए 25 रुपये रखा गया है। मुख्य परीक्षा शुल्क शार्टलिस्ट होने वाले अभ्यर्थियों को बाद में देना होगा। मुख्य सेविका मुख्य परीक्षा के लिए कुल पदों के मुकाबले 15 गुना अभ्यर्थियों को बुलाया जाएगा।

यूपी के बाहर वालों को आरक्षण नहीं

  • ग्रामीण क्षेत्रों में बच्चों और महिलाओं के कल्याण का काम करने में अनुभव, प्रादेशिक सेना में न्यूनतम दो वर्ष की अवधि तक सेवा या राष्ट्रीय कैडेट कोर का बी प्रमाण पत्र प्राप्त करने वाली महिलाओं को प्राथमिकता दी जाएगी।
  • शासन द्वारा निर्धारित व्यवस्था के आधार पर आरक्षण दिया जाएगा।
  • यूपी के बाहर वालों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलेगा। इनको अनारक्षित श्रेणी में माना जाएगा।