स्वप्नशास्त्र : क्या है सपने में खिलौने देखने का अर्थ, जानिए शुभ अशुभ संकेत

Secret of Dreams

Dream Astrology : हम अपना जीवन दो हिस्सों में जीते हैं। एक जागृत अवस्था और दूसरा सुप्तावस्था। इस तरह औसतन जीवन का करीब एक तिहाई हिस्सा हम सोते हुए गुजारते हैं। और नींद हमें ले जाती है सपनों की सैर पर। सपने..जो अब भी एक अबूझ पहेली की तरह ही है और धर्म, विज्ञान, मनोविज्ञान इसे लेकर अपने अपने अर्थ खोजता और बताता है। कई धार्मिक संस्कृतियों में मान्यता है कि सपने भविष्यवाणी करते हैं लेकिन विज्ञान इस बात का समर्थन नहीं करता है।

सपनों का रहस्य

तो आखिर हमें सपने क्यों आते हैं…इस प्रश्न पर कई तरह की रिसर्च हो चुकी है और अब भी जारी है। सपनों के वैज्ञानिक अध्ययन को वनिरोलॉजी (oneirology) कहा जाता है। ये मस्तिष्क के कार्यों के संबंध में सपनों को समझने का वैज्ञानिक दृष्टिकोण है। सपने मुख्य रूप से नींद के रैपिड-आई मूवमेंट (REM) के चरण में आते हैं, हालांकि ये नींद के अन्य चरणों में भी आ सकते हैं। बहरहाल, विज्ञान और मनोविज्ञान में सपनों पर शोध और अध्ययन जारी है। लेकिन धार्मिक मान्यताओं में जहां सपनों को लेकर विभिन्न अर्थ और संकेत बताए गए हैं, वहां ये माना जाता है कि कई सपनों के आने के पीछे कुछ गूढ़ कारण होते हैं। हमारे यहा ज्योतिष शास्त्र अंतर्गत स्वप्नशास्त्र में सपनों को लेकर विभिन्न बातें बताई गई हैं। आज हम जानेंगे कि सपनों में खिलौने देखने के क्या संकेत होते हैं।

Continue Reading

About Author
श्रुति कुशवाहा

श्रुति कुशवाहा

2001 में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय भोपाल से पत्रकारिता में स्नातकोत्तर (M.J, Masters of Journalism)। 2001 से 2013 तक ईटीवी हैदराबाद, सहारा न्यूज दिल्ली-भोपाल, लाइव इंडिया मुंबई में कार्य अनुभव। साहित्य पठन-पाठन में विशेष रूचि।