Health Tips: जामुन के साथ भूलकर भी न करें इन 4 चीजों का सेवन, शरीर को होंगे कई नुकसान

जामुन सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है। लेकिन इसके साथ कुछ चीजों का सेवन करना हानिकारक माना माना जाता है।

things should be not consumed with jamun

Health Tips: सेहत के लिए जामुन बेहद ही फायदेमंद माना जाता है। इसमें विटामिन सी, आयरन और कई मिनरल्स मौजूद होते हैं। जामुन का सेवन करने से कई बीमारियों का खतरा कम होता है। आँखों, त्वचा और बालों के लिए लाभदायक माना जाता है। मधुमेह रोगियों के लिए यह वरदान समान होता है। ओरल हेल्थ और पाचन तंत्र के लिए भी जामुन को फायदेमंद माना जाता है। लेकिन जामुन के साथ कुछ चीजों का सेवन सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता। शरीर को कई नुकसान भी हो सकते हैं। आइए जानें जामुन के साथ क्या नहीं खाना (Things Should Be Not Consumed With Jamun) चाहिए?

health tips

पानी (Water) 

Health Tips

जामुन के साथ पानी पीना सेहत के लिए अच्छा नहीं माना जाता है। जामुन खाने के तुरंत बाद भी पानी न पियें। ऐसा करने से दस्त, अपच और अन्य कई समस्याएं हो सकती है। इसलिए जामुन के 30 मिनट बाद पानी पियें।

हल्दी (Turmeric) 

Health Tips

हल्दी और जामुन का कॉम्बिनेशन नुकसानदायक माना जाता है। एक साथ इन दोनों का सेवन करने से शरीर में रिएक्शन होता है। जिससे स्वास्थ्य संबंधित कई समस्याएं होती हैं। पेट से जुड़ी बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।

दूध (Milk) 

Health Tips

दूध और जामुन दोनों ही औषधीय गुणों से भरपूर होते हैं। लेकिन इन दोनों का कॉम्बिनेशन शरीर को कई नुकसान पहुंचाता है। इनका एकसाथ सेवन करने से पाचन से संबंधित समस्याएं होती हैँ।

आचार (Pickel)

Health Tips

चटपटा और मसालेदार आचार किसी भी खाने का स्वाद बढ़ाने में मदद करता है। लेकिन जामुन के साथ आचार का सेवन सेहत को नुकसान पहुंचाता है। इन दोनों का एकसाथ सेवन करने से पेट दर्द और पाचन से जुड़ी अन्य समस्याएं हो सकती है।

(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल सामान्य जानकारी साझा करना है, जो विभिन्न माध्यमों पर आधारित है। MP Breaking News इन बातों के सत्यता और सटीकता की पुष्टि नहीं करता। विशेषज्ञों की सलाह जरूर लें।)


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"