Obesity is Illegal : क्या आप जानते हैं किस देश के लोगों को मोटा होने पर मिलती है सजा? पढ़ें यह खबर

Obesity is Illegal : अधिकतर लोग उम्र बढ़ने के साथ वजन बढ़ने का अनुभव करते हैं। वहीं भारत जैसे देशों में मोटापा एक आम बात मानी जाती है। लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि एक ऐसा भी देश है, जहां मोटापा बढ़ने को लेकर कानून हैं और मोटे होने पर सजा दी जाती है?

Obesity is Illegal : दुनियाभर के देशों में कानून अपने-अपने देश के हिसाब से बनाए जाते हैं यानी हर देश में अलग-अलग कानून होते हैं। वहीं अक्सर कुछ देश अपने अनोखे कानूनों के लिए मशहूर होते हैं। दरअसल आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बताने जा रहे हैं जहां वजन बढ़ना गैरकानूनी माना जाता है। चलिए आज इस खबर में हम जानेंगे कि किस देश में मोटापा अवैध है और इसके लिए क्या सजा दी जाती है।

मोटा होना जुर्म है:

शरीर का वजन बढ़ना सामान्य है, लेकिन जापान में मोटापा अवैध है। दरअसल वहां मोटे होने पर सजा दी जाती है। अक्सर आपने गौर किया होगा कि जापान के लोग अक्सर पतले होते हैं। इसका एक कारण यह है कि वहां मोटा होना कानून के खिलाफ है। जी हां, यह सुनने में अजीब लगेगा, लेकिन जापान में मोटा होने पर सजा मिल सकती है और इसे कानून का उल्लंघन माना जाता है।

जापानी लोग चलते है अत्यधिक पैदल :

जानकारी के मुताबिक के जापान के लोग पैदल चलने को प्राथमिकता देते हैं। वे मोटापा कम करने के लिए स्वस्थ आहार लेते हैं और पैदल चलने या सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करते हैं। सार्वजनिक परिवहन का उपयोग करने से उन्हें लंबी दूरी तक चलना पड़ता है, जिससे वजन नियंत्रित रहता है। जापानियों के आहार में मछली, सब्जियां और चावल प्रमुख रूप से शामिल होते हैं।

जानिए क्या है मोटापा नियंत्रण कानून?

दरअसल जापान में मोटापा रोकने के लिए एक विशेष कानून है जिसे “मेटाबो लॉ” कहा जाता है। 2008 में जापान के स्वास्थ्य, श्रम और कल्याण मंत्रालय ने इस कानून को लागू किया था। इस कानून के तहत 40 से 74 वर्ष की उम्र के पुरुषों और महिलाओं की कमर का माप लिया जाता है। पुरुषों की कमर का साइज 33.5 इंच और महिलाओं के लिए 35.4 इंच निर्धारित है।

मोटा होने पर मिलती है सजा:

जानकरी के अनुसार जापान में मोटा होने पर आधिकारिक तौर पर सजा का प्रावधान नहीं है, लेकिन मोटे लोगों को कुछ नियमों का पालन करना होता है। यदि कोई व्यक्ति मोटा होता है, तो उसे वजन घटाने की कक्षाओं में भाग लेना पड़ता है। इन कक्षाओं का आयोजन स्वास्थ्य बीमा कंपनियां करती हैं।


About Author
Rishabh Namdev

Rishabh Namdev

मैंने श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय इंदौर से जनसंचार एवं पत्रकारिता में स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। मैं पत्रकारिता में आने वाले समय में अच्छे प्रदर्शन और कार्य अनुभव की आशा कर रहा हूं। मैंने अपने जीवन में काम करते हुए देश के निचले स्तर को गहराई से जाना है। जिसके चलते मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार बनने की इच्छा रखता हूं।