Parenting Tips: बच्चों को ऐसे समझाएं इमोशंस और फिलिंग्स के बारे में, बिना रोएं करेंगे सिचुएशन हैंडल

Parenting Tips: बच्चों के लिए अपनी भावनाओं को समझना और व्यक्त करना सीखना एक महत्वपूर्ण जीवन कौशल है। यह उन्हें स्वस्थ संबंध बनाने, संघर्षों को हल करने और जीवन की चुनौतियों का सामना करने में मदद करता है।

parenting tips

Parenting Tips: हर माता-पिता अपने बच्चों की अच्छी से अच्छी परवरिश करते हैं। बच्चों के जीवन में माता-पिता का अहम किरदार होता है। माता-पिता बच्चों को हर सुख सुविधा देते हैं जिससे कि उन्हें किसी भी प्रकार की कोई भी परेशानी का सामना न करना पड़े। लेकिन जैसे-जैसे बच्चे बड़े होते हैं उन्हें समझ पाना थोड़ा मुश्किल होता जाता है। गुस्सा खुशी या एक्साइटमेंट यह सभी एक प्रकार की नेचुरल इमोशन से जो न सिर्फ बच्चे बल्कि बड़ों में भी साफ नजर आते हैं। इन इमोशंस का सामना करना बड़ों को बखूबी आता है लेकिन बच्चों के लिए यह थोड़ा मुश्किल हो जाता है, बच्चे अपने इमोशंस को समझ नहीं पाते हैं और खुलकर व्यक्त नहीं कर पाते हैं। ऐसे में आज हम आपको इस लेख के द्वारा बताएंगे कि कैसे आप अपने बच्चों के इमोशंस को समझ सकते हैं। जब बच्चे शब्दों से अपने इमोशंस को व्यक्त नहीं कर पाते हैं तो वह रोना, नखरे करना या पैर पटकना जैसी हरकतें करते हैं, तो चलिए समझते हैं कि किन टिप्स की मदद से आप अपने बच्चों के इमोशंस को समझ सकते हैं और उन्हें भी अपने इमोशंस के बारे में समझ सकते हैं।

इन तरीकों से आप अपने बच्चे की भावनाओं को समझ सकते हैं

1. अपनी भावनाओं को व्यक्त करें

बच्चे अपने आसपास के एडल्ट्स से सीखते हैं। जब आप अपनी भावनाओं को खुले तौर पर और ईमानदारी से व्यक्त करते हैं, तो यह आपके बच्चे को अपनी भावनाओं को पहचानने और व्यक्त करने में मदद करता है।

Continue Reading

About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग रंग होता है, यह इतना चमकदार रंग होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा की कलम में बहुत ताकत होती है, इस कलम की ताकत को बरकरार रखने के लिए हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन से बीए स्नातक किया। मैं अब आगे इसी विषय में DAVV यूनिवर्सिटी से स्नाकोत्तर कर रही हूं। मेरा पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू ही हुआ है। मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग, वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली, धर्म इन विषयों पर लिखना अच्छा लगता है।