Psychological facts : क्यों आती है किसी की याद, यादों के पीछे होते हैं मनोवैज्ञानिक कारण

आप किसी को मिस करते हैं तो याद करते हैं

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। अक्सर ऐसा होता है कि हम किसी को याद (memories) कर रहे होते हैं। कभी किसी काम की वजह से, कभी उससे जुड़ी कोई घटना को लेकर तो कभी किसी आदत के कारण किसी की याद चली आती है। वहीं अगर आप किसी के प्यार में हैं तो ये याद चौबीस घंटे आपका पीछा नहीं छोड़ती। कई बार हम ये पता भी नहीं कर पाते कि किसी की याद में है और एक अजीब सी उदासी से घिरे रहते हैं। इन यादों के पीछे भी कुछ मनोवैज्ञानिक तथ्य (psychological facts) हैं। आईये आज आपको इसी बारे में रोचक जानकारी देते हैं।

इंटरनेट पर तेजी से वायरल हो रहा Rashami Desai का रिवीलिंग लुक

  • जब हम किसी को मिस करते हैं तो याद करते हैं। इसे ऐसा भी कहते हैं कि जब आप किसी को याद करते हैं तो उसे मिस कर रहे होते हैं।
  • किसी को याद करने के बाद उसकी अनुपस्थिति के खयाल से मन उदास हो जाता है।
  • जब आप किसी के प्रेम में होते हैं तो लगातार उसकी याद बनी रहती है।
  • अगर किसी के न होने से आपको चिड़चिड़ाहट होती है इसका मतलब है कि आपको उसकी याद आ रही है।
  • अगर आप किसी अवसाद के शिकार है और इसके पीछे कोई कारण नहीं है। डिप्रेशन फील करने के दौरान अगर आपको किसी खास शख्स का खयाल आ रहा है तो आपको उसकी याद आ रही है।
  • अगर आप किसी को बार बार सपने में देखते हैं तो ये भी याद आने की निशानी है।
  • अगर आप किसी को याद करके सो नहीं पा रहे हैं और सारी रात जागकर कट रही है तो आप याद में है।
  • अगर आप किसी को मिस या याद कर रहे हैं तो आपके मूड स्विंग होंगे।
  • किसी की बहुत याद आने पर आपका काम पर नकारात्मक असर पड़ता है।
  • अगर किसी की बेतरह याद आ रही है और आप उससे मिल नहीं पा रहे तो आप बीमार भी महसूस कर सकते हैं।
  • किसी को याद करना दरअसल उसके साथ बिताए समय को दोहराने की इच्छा भी होती है।
  • अगर आप किसी को सबसे पहले कोई अच्छी खबर सुनाना चाहते हैं तो वो आपकी यादों की फेहरिस्त में सबसे ऊपर है।
  • अगर आप किसी को मिस कर रहे हैं या याद कर रहे हैं और वो आपको याद नहीं करता, तो उदासी कई गुना बढ़ जाती है।
  • मनोविज्ञान कहता है कि आप उस व्यक्ति को नहीं, उसके होने के खयाल को मिस करते हैं या याद करते हैं।