Recipe: घर पर बनेगा स्वादिष्ट आम फालूदा, दोस्तों को चखाएं ठंडी मिठाई का मजा

Recipe: गर्मी का मौसम आ चुका है और इसके साथ ही आ गई है आम की मिठास। आम फालूदा एक ऐसी पारंपरिक भारतीय मिठाई है जो गर्मियों में हर घर में बनाई जाती है। क्या आप अपने विदेशी दोस्तों को भी इस स्वादिष्ट मिठाई का आनंद देना चाहते हैं? चिंता न करें। यहां हम आपको बताएंगे कि आप घर पर ही आसानी से कैसे बना सकते हैं आम फालूदा, अपने विदेशी दोस्तों के साथ।

Recipe

Recipe: आम फालूदा सिर्फ एक मिठाई नहीं है, बल्कि गर्मी के मौसम में स्वादिष्ट और पौष्टिक राहत का एक अनूठा नुस्खा है। रंगीन, मीठा, और विभिन्न बनावटों से युक्त यह व्यंजन किसी भी इंद्रिय को जगा सकता है। गर्मी में कई चीजें ठंडक देती हैं, लेकिन आम फालूदा सिर्फ स्वाद ही नहीं, बल्कि चिलचिलाती धूप में अद्भुत राहत भी प्रदान करता है। ताजे आम के टुकड़े, नरम फालूदा, ठंडा दूध, और सुगंधित मसाले मिलकर एक ऐसा स्वाद बनाते हैं जो गर्मी के थकान और तनाव को दूर भगा देता है। आम फालूदा सिर्फ स्वादिष्ट ही नहीं, पौष्टिक भी है। आम में विटामिन A, C और E प्रचुर मात्रा में होते हैं जो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाते हैं और त्वचा को स्वस्थ रखते हैं। दूध कैल्शियम का अच्छा स्रोत है जो हड्डियों को मजबूत बनाता है। फालूदा में कार्बोहाइड्रेट होते हैं जो ऊर्जा प्रदान करते हैं। तो देर किस बात की? गर्मी में स्वाद और राहत का अनुभव करने के लिए आज ही घर पर आम फालूदा बनाकर देखें।

आम फालूदा बनाने के लिए सामग्री

आम 2 (कटे हुए)
फालूदा सेव 1 कप (पानी में भिगोकर रखें)
दूध 1 लीटर
चीनी स्वादानुसार
केवड़ा पानी 1 बड़ा चम्मच (वैकल्पिक)
बादाम 10-12 (कटे हुए)
पिस्ता 10-12 (कटे हुए)
इलायची 2-3 (पिसी हुई)

विधि

आम को छोटे-छोटे टुकड़ोंमें काट लें।
फालूदा सेव को पानी में भिगोकर रखें।
दूध को उबाल लें और चीनी मिलाकर मीठा कर लें।
केवड़ा पानी (यदि उपयोग कर रहे हों) मिलाएं।
एक गिलास में आम के टुकड़ेडालें।
फालूदा सेव(पानी निकालकर) डालें।
मीठा दूध डालें।
बादाम, पिस्ता और इलायची से सजाकरपरोसें।

सुझाव:

आप आम के अलावा अन्य फलों जैसे खरबूजा या तरबूज का भी उपयोग कर सकते हैं।
आप फालूदा सेव के स्थान पर चावल के नूडल्स का भी उपयोग कर सकते हैं।
आप बादाम, पिस्ता और इलायची के अलावा अन्य मेवे भी डाल सकते हैं।
आप आम फालूदा को ठंडा या गर्म परोस सकते हैं।


About Author
भावना चौबे

भावना चौबे

इस रंगीन दुनिया में खबरों का अपना अलग ही रंग होता है। यह रंग इतना चमकदार होता है कि सभी की आंखें खोल देता है। यह कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि कलम में बहुत ताकत होती है। इसी ताकत को बरकरार रखने के लिए मैं हर रोज पत्रकारिता के नए-नए पहलुओं को समझती और सीखती हूं। मैंने श्री वैष्णव इंस्टिट्यूट ऑफ़ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन इंदौर से बीए स्नातक किया है। अपनी रुचि को आगे बढ़ाते हुए, मैं अब DAVV यूनिवर्सिटी में इसी विषय में स्नातकोत्तर कर रही हूं। पत्रकारिता का यह सफर अभी शुरू हुआ है, लेकिन मैं इसमें आगे बढ़ने के लिए उत्सुक हूं।मुझे कंटेंट राइटिंग, कॉपी राइटिंग और वॉइस ओवर का अच्छा ज्ञान है। मुझे मनोरंजन, जीवनशैली और धर्म जैसे विषयों पर लिखना अच्छा लगता है। मेरा मानना है कि पत्रकारिता समाज का दर्पण है। यह समाज को सच दिखाने और लोगों को जागरूक करने का एक महत्वपूर्ण माध्यम है। मैं अपनी लेखनी के माध्यम से समाज में सकारात्मक बदलाव लाने का प्रयास करूंगी।