इन वास्तु टिप्स को ध्यान में रख कर सजाएं बच्चों का कमरा, पॉजिटिव रहेंगे विचार

वास्तु के अनुसार बच्चों का कमरा बनाते वक्त कुछ बातों का खास ध्यान रखा जाना चाहिए. ये ऐसी वास्तु टिप्स हैं जिन्हें ध्यान में रख कर बच्चों का कमरा तैयार किया जाए तो बच्चों के भीतर पॉजिटिव थिंकिंग डेवलेप होती है साथ ही वो खुश भी रहते हैं.

बच्चों का कमरा घर की वो जगह होती है जहां बच्चे ज्यादा से ज्यादा समय बिताते हैं. ऐसे में उस रूम की साज सज्जा, रूम का रंग, सब कुछ बच्चों पर असर डालते हैं. वास्तु के अनुसार बच्चों का कमरा बनाते वक्त कुछ बातों का खास ध्यान रखा जाना चाहिए. ये ऐसी वास्तु टिप्स हैं जिन्हें ध्यान में रख कर बच्चों का कमरा तैयार किया जाए तो बच्चों के भीतर पॉजिटिव थिंकिंग डेवलेप होती है साथ ही वो खुश भी रहते हैं. इसलिए चलिए जानते हैं बच्चों के कमरे के लिए किस तरह की वास्तु टिप्स को ध्यान में रखना चाहिए.

ब्राइट कलर का करें उपयोग

बच्चों के कमरे के कलर्स हमेशा ब्राइट होने चाहिए. जो उनमें ऊर्चा का संचार करें. डल कलर्स बच्चों को भी डल कर सकते हैं. कमरे की दीवारों पर ब्राइट पेंट के साथ साथ बाकी चीजें भी ब्राइट कलर की ही चुनें.

बच्चों की फोटो

वैसे तो बच्चों के कमरे सजाने के लिए आपने ढेर सारी प्लानिंग की होगी. लेकिन बच्चों के कमरे में उनकी खुद की फोटो जरूर लगाएं. खासतौर से अगर बच्चे ने कोई उपलब्धी हासिल की है तो उसकी तस्वीर उनके कमरे की पश्चिमी दीवार पर लगाना न भूलें. ये उन्हें हमेशा प्रेरित केरगी.

खिलौनो की सही दिशा

बच्चे अगर छोटे हैं तो उनके कमरे में खिलौनों की जगह जरूर होगी. ये जगह कमरे के उत्तर या पूर्वी कोने में रखें. खिलौने कमरे में दक्षिण या पश्चिम की तरफ नहीं होना चाहिए.

ऐसी हो पेंटिंग

बच्चों के कमरों में अगर पेंटिंग लगाने वाले हैं तो उगते सूरज या कोई भी प्रोग्रेसिव पेंटिंग ही लगाएं. चाहें तो फूलों की पेंटिंग भी लगा सकती हैं. इससे उन्हें ताजगी का अहसास होगा.

भरपूर लाइट

बच्चों का कमरा सजाते वक्त वहां भरपूर लाइट का भी इंतजाम करें. कोशिश करें कि उनके कमरे में सूरज की रोशनी से अच्छे से आए. अगर ऐसा न हो सके तो कमरे के भीतर ही भरपूर लाइट्स लगाएं. रोशनी हमेशा एनर्जी देती है. इसलिए पढ़ने वाले बच्चों के कमरे में कभी भी कम लाइट न रखें.