World Bicycle Day : क्या आप जानते हैं कब हुई थी World Bicycle Day मनाने की शुरुआत? किस देश को कहा जाता है बाइसिकल कैपिटल? पढ़ें यह खबर

World Bicycle Day : आज इस खबर में हम जानते हैं कि विश्व साइकिल दिवस की शुरुआत कब और कैसे हुई? आज हम आपको इसके पीछे की दिलचस्प कहानी बताएंगे।

World Bicycle Day : हम सभी यह जानते हैं कि साइकिल चलाना स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभकारी है। लेकिन क्या आप यह जानते है कि World Bicycle Day कब बनाया जाता है? दरअसल हर साल 3 जून को विश्व साइकिल दिवस (World Bicycle Day) मनाया जाता है, जिसका उद्देश्य विश्वभर में साइकिल के महत्व को रेखांकित करना है। तो चलिए आज इस खबर में हम जानते हैं कि विश्व साइकिल दिवस की शुरुआत कब और कैसे हुई? आज हम आपको इसके पीछे की दिलचस्प कहानी बताएंगे।

विश्व साइकिल दिवस (World Bicycle Day):

दरअसल विश्व साइकिल दिवस का मुख्य उद्देश्य साइकिल चलाने से स्वास्थ्य और पर्यावरण को होने वाले लाभों के प्रति जागरूकता फैलाना है। आपने भी यह कई बार सुना ही होगा कि, डॉक्टर और विशेषज्ञ साइकिल चलाने की सलाह देते हैं। दरअसल साइकिल चलाने की सलाह इसलिए दी जाती हैं, क्योंकि नियमित साइकिल चलाने से स्वास्थ्य बेहतर रहता है। आपको बता दें कि इस दिवस की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 3 जून 2018 को जागरूकता बढ़ाने के लिए की थी।

क्यों मनाया जाता है World Bicycle Day:

जानकारी के मुताबिक विश्व साइकिल दिवस की आधिकारिक शुरुआत 3 जून, 2018 को न्यूयॉर्क में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा की गई थी। दरअसल इस कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र के अधिकारियों, एथलीटों और बड़ी संख्या में लोगों ने भाग लिया था। आपको बता दें कि इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य इससे स्वास्थ्य को होने वाले फायदों के बारे में जागरूकता बढ़ाना था। तब से, जिसके बाद से ही यह दिन दुनियाभर में साइकिल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा है।

दुनिया की साइकिल राजधानी:

नीदरलैंड्स को अक्सर दुनिया की साइकिल राजधानी कहा जाता है। इसका कारण यह है कि यहां की जनसंख्या केवल लगभग 170 लाख है, जबकि देश में संख्या लगभग 2 करोड़ से ज्यादा है।

साइकिलिंग के होते है कई फायदें:

साइकिलिंग के कई स्वास्थ्य लाभ हैं। यह कैलोरी बर्न करने का एक बेहतरीन तरीका है, जिससे मांसपेशियों को मजबूती मिलती है, वजन घटता है और समग्र फिटनेस में सुधार होता है। नियमित रूप से साइकिल चलाने से शरीर अधिक लचीला होता है और ऊपरी शरीर की मुद्रा भी सुधरती है। साइकिलिंग से शरीर के समन्वय और ताकत में वृद्धि होती है, जिससे फिटनेस बनी रहती है और वजन नियंत्रण में रहता है।


About Author
Rishabh Namdev

Rishabh Namdev

मैंने श्री वैष्णव विद्यापीठ विश्वविद्यालय इंदौर से जनसंचार एवं पत्रकारिता में स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। मैं पत्रकारिता में आने वाले समय में अच्छे प्रदर्शन और कार्य अनुभव की आशा कर रहा हूं। मैंने अपने जीवन में काम करते हुए देश के निचले स्तर को गहराई से जाना है। जिसके चलते मैं एक सामाजिक कार्यकर्ता और पत्रकार बनने की इच्छा रखता हूं।