इंदौर : ये कैसी ममता!, गर्भ में ही किया बच्चे का सौदा

इंदौर की एक महिला ने अपने पेट में पल रहे पांच महीने के गर्भ का ही सौदा कर दिया। बाहरी लोगों की मदद से बच्चा साढ़े पांच लाख रुपये में बेचा गया, जहां अन्य लोगों में कमीशन बंटा वहीं पति-पत्नी को लगभग आधे रुपये मिले।

July Born Baby

इंदौर, डेस्क रिपोर्ट। मां के बारे में एक बात बोली जाती है, ‘एक मां अपने बच्चे को इस दुनिया के मुकाबले 9 महीने ज्यादा जानती है’, उसका कारण साफ है क्योंकि शुरुआती 9 महीने मां बच्चे को अपने गर्भ में पलटी है शायद इसी वजह से वह अपने बच्चे को इतना प्यार करती है, जितना कोई भी इस दुनिया में उसे नहीं दे सकता।

लेकिन सुनने में कैसा लगेगा, जब पता चले की एक मां ने इस ममता को ही शर्मसार कर दिया। ताजा मामला इंदौर से है, जहां एक मां ने पैसों के लालच में ममता को ही दांव पर रख दिया।

बता दे, इंदौर की एक महिला ने अपने पेट में पल रहे पांच महीने के गर्भ का ही सौदा कर दिया। बाहरी लोगों की मदद से बच्चा साढ़े पांच लाख रुपये में बेचा गया, जहां अन्य लोगों में कमीशन बंटा वहीं पति-पत्नी को लगभग आधे रुपये मिले। इस बात की सूचना मिलने पर एक सामाजिक कार्यकर्ता ने मामले की शिकायत पुलिस को की, तब जा कर इस घिनौनी हरकत का खुलासा हो पाया।

ये भी पढ़े … बिजली बिल के बाद अब बिजली कनेक्शन लेना भी पड़ेगा महंगा

पुलिस ने फिलहाल छह आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया है। कुछ आरोपित फरार हैं, जिनकी तलाश जारी है।

ऐसे हुए पर्दाफाश

हीरा नगर थाना पुलिस के अनुसार दीपक नाम के सामाजिक कार्यकर्ता ने पुलिस को उक्त संबंध में शिकायत की थी, जिसे उसके नाबालिग दोस्त ने बताया था कि उसने दो माह पहले एक बच्चा एक जरुरतमंद महिला को दिलाया और इस सौदे में उसे कमिशन भी मिला। पुलिस ने जब मामले की जांच की तो पता चला कि बच्चा अंतरसिंह उर्फ विशाल निवासी गौरी नगर व शायना बी का है।

बच्चे का बाप कोई और तो कर दिया सौदा …

बच्चे के मां-बाप अंतरसिंह और शायना बी की यह दूसरी शादी है। शायना जब गर्भवती हुई तो उसे शक हुआ कि यह बच्चा अंतरसिंह का नहीं है। इसके बाद गर्भ में बच्चे को बेचने की प्लानिंग की गई, जहां दोनों ने जान पहचान के लोगों से इस काम को अंजाम देने की बात की। मामले में नेहा सूर्यवंशी निवासी सुखलिया, पूजा वर्मा निवासी रुस्तम का बगीचा, नेहा वर्मा निवासी रुस्तम का बगीचा, नीलम वर्मा निवासी रेडवाल कालोनी भागीरथपुरा की मदद से बच्चे को देवास निवासी लीना नामक महिला को बेचा गया।

लीना से साढ़े पांच लाख रुपये में बच्चे को खरीदा। साढ़े पांच लाख रुपये में से कुछ राशि नाबालिग और महिलाओं में बांट दी गई, जबकि दो लाख 70 हजार रुपये अंतर सिंह और शायना ने रख लिए। पुलिस ने मामले में शायना, पूजा वर्मा, नेहा सूर्यवंशी, नेहा वर्मा, नीलम व नाबालिग को हिरासत में ले लिया है, जबकि अंतर सिंह फरार है उसकी तलाश की जा रही है।

ये भी पढ़े … पंचायत चुनाव की नामांकन प्रक्रिया खत्म, पंच पद के लिए नहीं दिखी रूचि

हीरानगर के थाना प्रभारी सतीश पटेल ने बताया, “प्रारंभिक तौर पर यह पता चला है कि अंतर सिंह ने शंका और रुपयों के लालच में यह काम किया। कुछ महिलाओं और एक नाबालिग की मदद से बच्चे का सौदा देवास निवासी महिला से किया गया।मामले में छह आरोपितों को हिरासत में लिया है, उनसे पूछताछ की जा रही है। फरार आरोपितों की तलाश जारी है। फिलहाल रैकेट की बात सामने नहीं आई है।”