Bhopal Rape : नाबालिग थी पेट दर्द से पीड़ित, डाक्टरों ने किया गर्भवती होने का खुलासा

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म (Rape), पॉक्सो, छेड़छाड़, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के साथ 9 से ज्यादा धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। हालांकि अभी तक इस मामले में आरोपी की गिरफ्तारी (Accused not Arrested) नहीं हुई है।

भोपाल,डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल (Bhopal) से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है, जहां एक नाबालिग (Minor) के साथ हुए रेप (Rape) की वारदात का मामले के बारे में तब जानकारी लगी जब वह गर्भवती (Pregnant) हो गई। नाबालिग को कई दिनों से पेट में दर्द (Stomach Pain) था। पेट दर्द की शिकायत के चलते हैं नाबालिग की मां उसे डॉक्टर के पास ले कर गई, जहां डॉक्टर ने उसके गर्भवती (Pregnant) होने के बात उसकी मां को बताई। नाबालिग के साथ हुए दुष्कर्म (Rape) की जानकारी जैसे ही पुलिस को लगी, तुंरत पुलिस ने आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म, पॉक्सो, छेड़छाड़, मारपीट और जान से मारने की धमकी देने के साथ 9 से ज्यादा धाराओं में केस दर्ज कर लिया है। हालांकि अभी तक इस मामले में आरोपी की गिरफ्तारी (Accused not Arrested) नहीं हुई है।

नाबालिग अरेरा हिल्स थाना क्षेत्र की निवासी है, जिसकी उम्र 14 साल है। नाबालिग की मां उसे गुरुवार को पेट दर्द होने की शिकायत के चलते अस्पताल (Hospital) लेकर गई थी, जहां डॉक्टरों ने बताया कि नाबालिग मां बनने वाली है। जिसको सुनकर नाबालिग की मां हक्का बक्का रह गई। मां और बेटी दोनों को गौरवी सेंट्रल काउंसलिंग के लिए भेजा गया ,जहां लड़की ने बताया कि अक्टबूर के महीने में उसके साथ 30 साल के मुकेश ने दुष्कर्म (Rape) की वारदात को अंजाम दिया था।

लड़की ने बताया कि 24 अक्टूबर को मुकेश उसके घर आया था। उस दौरान वह घर पर अकेली थी। लड़की को अकेला पाकर मुकेश ने उसे अपनी हवस का शिकार बनाया। साथ ही उसे धमकी दी कि अगर उसने इस वारदात के बारे में किसी को भी बताया तो वह उसे जान से मार देगा। वही कुछ दिनों बाद नवंबर में भी दुष्कर्म का आरोपी उसके घर आया था और उसके साथ उसने छेड़छाड़ की। जब लड़की ने इस बात का विरोध किया, तो आरोपी द्वारा उसे धमकाया गया और मारपीट करते हुए गाली गलौज की गई। काउंसलिंग के बाद शिकायत पुलिस के पास पहुंची, जहां आरोपी मुकेश के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है और उसकी तलाश जारी है।

वहीं गर्भवती होने की सूचना मिलने के बाद से ही लड़की डिप्रेशन में है और परिजन भी ठीक नहीं है। हालातों को देखते हुए पुलिस द्वारा नाबालिग और उसके परिजन दोनों की लगातार काउंसलिंग की जा रही है। कोर्ट में भी पुलिस द्वारा पूरे मामले की जानकारी दी जाएगी, जिसके पश्चात आगे कोई निर्णय लिया जाएगा।