इंदौर, आकाश धोलपुरे। बीजेपी के वरिष्ठ नेता पूर्व विधायक एवं बीजेपी के पूर्व नगर अध्यक्ष गोपीकृष्ण नेमा के छत्रीपुरा स्थित निवास पर चार दिन पहले एक साथ कई बदमाशों ने हमला कर घर मेें तोड़ फोड़ मचा दी थी। जिसके बाद इंदौर पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू कर दी थी।

दरअसल, पुलिस के लिए बदमाशों को पकड़ना इसलिए भी जरूरी था क्योंकि मध्यप्रदेश में बीजेपी की सत्ता होने के बाद भी पश्चिम बंगाल जैसे हालात बनते नजर आ रहे थे। लिहाजा, पुलिस ने बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए 10 – 10 हजार का इनाम भी घोषित किया था।

इधर, पुलिस ने दो मुख्य आरोपी अरुण वर्मा और अश्विनी सिरोलिया को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने दोनों के खिलाफ एन. एस. ए. (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) के तहत कार्रवाई कर की है। वहीं दोनो के विरुद्ध हत्या के प्रयास का मुकदमा भी दर्ज है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नागदा निवासी आरोपी अश्विनी सिरोलिया के साले का विवाद कोर्ट पेशी के दौरान हुआ था और उसी के तार बीजेपी नेता के घर पर हुए हमले से जोड़कर देखे जा रहे है।

हालांकि, शुक्रवार को दोनों आरोपियों के हाथ पैरों में पट्टे बंधे दिखाई दिए और पुलिस की माने तो भागने के प्रयास में दोनों का ये हाल हुआ है। जबकि जो जानकारी सामने आ रही है उसके मुताबिक दोनों की जमकर पुलिसिया खातिरदारी हुई है।

इधर, इंदौर डीआईजी हरिनारायण चारि मिश्र ने बताया कि दो आरोपियों को पुलिस ने चिह्नित करके उनके खिलाफ एन एस ए के तहत कार्रवाई की है। साथ ही साथ उनके विरुद्ध 307 का जो प्रकरण कायम हुआ था, उसमें एन एस ए के बाद उनकी गिरफ्तारी हुई है। वही साथ मे गुंडो को चिह्नित कर अतिक्रमण करने वालो पर कार्रवाई की है और अवैध अतिक्रमण पर भी कार्रवाई की जा रही है।

फिलहाल, पुलिस ने अरुण वर्मा और अश्विनी सिरोलिया को गिरफ्तार कर लिया है और अब बीजेपी नेता के घर पर हुए पूरे मामले का खुलासा भी पुलिस जल्द ही हर बिंदु के साथ कर सकती है।