बिजली बिल की शिकायत पर मिला जवाब, ‘छूट पाना है तो BJP को हटाना है’

आगर मालवा| मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के आगर मालवा (Aagar Malwa) जिले से एक अनोखा मामला सामने आया है| बिजली के बढ़े हुए बिल की शिकायत करने पर एक शख्स को बिजली विभाग (Electricity Department) से जो जवाब मिला वो हैरान करने वाला था, बल्कि अब इस जवाब को लेकर बवाल मच गया है|

दरअसल, आगर मालवा में ज्यादा बिल आने की शिकायत ऑनलाइन दर्ज करने पर उपभोक्ता को जबाव मिला “अगर बिल में छूट पाना है तो बीजेपी को हटाना है और कांग्रेस को लाना है, 100 में 100 रुपए का आना है”| आगर मालवा के हरीश जाधव का करीब 30 हजार रुपए से ज्यादा का बिजली बिल आया था| जिसको लेकर उसने बिजली विभाग की बेवसाइट पर शिकायत की। शिकायत के बदले एक आईडी दी गई। दूसरे दिन जब हरीश जाधव ने वेबसाइट पर जाकर शिकायत का स्टेटस चेक किया तो हरीश के होश उड़ गए। उसमें संदेश लिखा था, “अगर बिल में छूट पाना है तो बीजेपी को हटाना है और कांग्रेस को लाना है, 100 में 100 रुपए का आना है”| इस तरह का मैसेज देख कर हरीश हैरान हो गए और उन्होंने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर इसकी शिकायत दर्ज कराई|

कार्यपालन यंत्री सस्पेंड
मध्यप्रदेश पश्चिम क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी ने आगर के कार्यपालन यंत्री एस.एस. भदौरिया को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। निलंबन की यह कार्यवाही कर्तव्य में लापरवाही व अनियमितता के चलते की गई है।

उपचुनाव से पहले गरमाई सियासत
शिकायत के जवाब में भाजपा का जिक्र आते ही सियासत भी गर्म हो गई है| आगर मालवा उन 24 सीटों में शामिल है जहां उपचुनाव है। इसी साल जनवरी में आगर मालवा के बीजेपी विधायक मनोहर ऊंटवाल का निधन हो गया था। और उसके बाद से ये सीट खाली है।

बिजली बिल की शिकायत पर मिला जवाब, 'छूट पाना है तो BJP को हटाना है'