कर्ज से ज्यादा ऋण माफी, किसानों ने संस्था प्रबंधक पर लगाए धांधली के आरोप

-Debt-forgiveness-more-than-debt

गर मालवा| गिरीश सक्सेना| मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार द्वारा किसानों के 2 लाख तक का कर्ज माफ करने की कवायद के बीच किसानों ने संस्था प्रबंधक पर धान्दली करने का आरोप लगाया है । ऐसा ही कुछ हुआ है आगर मालवा जिले की सुदवास संस्था में जहां के किसान जब ग्राम पंचायत में चस्पा की  गई कर्जदार किसानों की सूची देखने पहुचे तो वे अपने नाम के आगे लिखे कर्ज देख कर दंग रह गए क्योकि कुछ किसान ऐसे है जो अपना कर्ज पहले ही चुकाने की बात कह रहे है पर इसके बाद भी उनका नाम उतने ही कर्जे के साथ इस सूची है| वहीं कुछ किसानों का कहना है कि उन्होंने काफी कम कर्ज लिया था जिसकी एंट्री उनकी ऋण पुस्तिका में भी है और समय समय पर लेन देन भी किया गया पर अब जो सूची लगी है उसमें करीब दोगुना और तीन गुना कर्ज दिखाया गया है ।

इस प्रकार की शिकायत लेकर सुदवास संस्था के ग्राम सुदवास और ढाबला पिपलोंन में सेकड़ो किसानों इकठ्ठा होकर अपना आक्रोश व्यक्त कर रहे है ।  किसानों ने सुदवास प्रा.कृ. सहकारी संस्था के प्रबंधक मांगूसिंह पर ये सारी धान्दली करने का आरोप लगाते हुए बताया है कि पीड़ित किसानों ने पहले भी संस्था में इस प्रकार की धान्दली के सबन्ध में जिम्मेदारों को अवगत कराया था पर किसी ने भी उनकी शिकायत की सुनवाई नही की ओर आज जब कर्जदार किसानों की सूची ग्राम पंचायत में चस्पा की गई है तब सारी हकीकत सामने आ गई है ।  किसानों ने प्रकरण में जांच कराने के साथ ही संस्था प्रबंधक मांगूसिंह के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग की है । किसानों ने मांगूसिंह पर पिछले 6 साल में अकूत संपत्ति इकठ्ठी करने का भी आरोप लगाते हुए उसकी भी जांच करने मांग की है । वहीं  संस्था प्रबंधक ने अपने ऊपर लग रहे सभी आरोपो को नकारते हुए बताया है कि सूची 31 मार्च 2018 तक की है और उसके बाद किया गया लेनदेन का उसमे उल्लेख नही है है साथ ही किसानों द्वारा ब्याज ना भरने से उनका कर्जा बड़ा हुआ दिखाई दे रहा है|