“रेरा के आदेश का अधिकारी उड़ा रहे मखोल, कॉलोनी के भूखण्डधारी अभी भी है परेशान”

officers-not-listening-to-rera-order-

आगर मालवा। गिरीश सक्सेना। 

आगर बैजनाथ रोड स्थित तिरूपती विहार काॅलोनी के प्लाटधारी यू तो भू संपदा विनियामक एवं विकास प्राधिकरण अर्थात रेरा से करीब चार माह पहले ही केस जीत चुके है पर उसके बाद भी उनकी परेशानी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है क्योकि रेरा ने जिन अधिकारियो को निर्देशित कर 30 सितम्बर 2018 तक पालन प्रतिवेदन भी मागाॅ था शायद उनके पास रेरा के इस आदेश का पालन करने का समय ही नहीं है । 

हम आपको बता दे कि रेरा द्वारा दिनांक 5 सितम्बर 2018 को कलेक्टर आगर मालवा को निर्देशित किया गया था कि वे 15 दिवस के अंदर नगरपालिका आगर सीएमऔ, तिरूपति विहार काॅलोनी के कॉलोनाइजर एवं आवेदक भूखण्ड धारी जो भुखण्ड पर अपना नामांतरण ना होने से परेशान है के मध्य बैठक कराते हुए प्रकरण का उचित निराकरण करे और साथ ही रेरा द्वारा कलेक्टर को इसका 30 सितम्बर 2018 तक पालन प्रतिवेदन भी देेने को कहा गया था पर रेरा को यह आदेश दिए करीब 4 माह का समय हो चुका है पर इसके बाद भी उसका पालन अभी जिम्मेदारों द्वारा नही किया गया है ।

ऐसी स्थिति में इसी कॉलोनी के भूखण्डधारी पिडित सुधिर उपाध्याय और जगदीश गिरी गोस्वामी बता रहे है कि उनका मानना था कि रेरा का आदेश आने के बाद अब उनकी सारी समस्याओं का निराकरण हो जाएगा पर उनकी यह धारणा गलत साबित हुई और वे ही रेरा के इस आदेश का पालन कराने के लिए कॉलोनाइजर, एसएलआर, सीएमओ और यहां तक कि कलेक्टर के यहाँ भी फरियाद कर चुके है पर इसके बाद भी उन्हें सिर्फ फुडबाल समझ कर सब इस पाले से उस पाले में धकेल रहे है पर उनकी समस्या को कोई भी हल नही करना चाहता है ।

सुधीर उपाध्याय और जगदीश गिरी की तरह ही यहां का हर वो भूखण्ड धारी इसी तरह परेशान है जिसने अपनी गाड़ी पसीने की कमाई से इस कालोनी में प्लाट तो खरीद लिया पर जब बारी मकान बनाने की आई तो बैंक से लोन ही नहीं मिला क्योकि बैंक ने कहा नगरपालिका की निर्माण अनुमती लाऔ और नगरपालिका आगर है कि रेरा के आदेश के बाद भी ना तो निर्माण अनुमती दे रही है और ना ही प्रकरण का कोई निराकरण करने का प्रयास कर रही है। रही बात कलेक्टर महोदय की तो शायद अपनी व्यस्तता के चलते रेरा के इस आदेश को भूल चुके कलेक्टर महोदय को जब हमने इस आदेश और परेशान हो रहे भुखण्ड धारियोॅ की याद दिलाई तो अब वे इस प्रकरण के शिघ्र निपटारे की बात जरूर कह रहे है।