अलीराजपुर।यतेंद्रसिंह सोलंकी। लाॅक डाउन होने के चलते गुजरात राज्य में हजारो मजदूर मप्र के फंसे हुए थे। लबे समय से इन मजदूरो को वापस लाने की मांग चल रही थी। जिसके बाद शिवराज सरकार ने फैसला लिया कि फंसे हुए मजदूरो को वापस मप्र लाया जाएगा ओर आदेश के दूसरे दिन से ही गुजरात राज्य में फसे हुए मजदूरो को वापस लाने का काम शुरू हो गया है। 25 अप्रैल की तारीक को मजदूरो का पहला जत्था अलीराजपुर की मप्र बार्डर पहुंचा। इसमें करीब 150 मजदूर पहुंचे जो प्रदेश के विभिन्न जिलो के थे।

मप्र की शिवराज सरकार के फैसले के बाद गुजरात राज्य में फसे हुए मजदूरो को लाने का काम शुरू हो गया है और 25 अप्रैल की रात में करीब 150 मजदूर को मप्र वापस लाया गया।अलीराजपुर के समीप गुजरात बार्डर पर इन मजदूरो को लाया गया। सबसे पहले प्रशासन ने इन मजदूरो की स्केनिंग की गई ओर फिर भोजन कराकर इन मजदूरो के लिए बसो की व्यवस्था की गई। वापस प्रदेश लौटे मजदूर कटनी,गुना,सिवनी,धार आदि जिलो के थे।

इन मजदूरो का कहना है।कि लाॅक डाउन होने के बाद से इन लोगो के काम ठप पड गए थे जिसके बाद से इन लोगो कोआर्थिक तंगी का सामना करना पड रहा था। मजदूरो ने बताया कि ये लोग कई किलोमिटर का पैदल सफर कर गुजरात के छोटाउदयपुर तक आए थे वहा इनको पुलिस ने रोखकर कैंपो में ठहराया था। मजदूरो ने कहा कि उनको वापस अपने प्रदेश लौटकर काफी खुशी हो रही है प्रदेश सरकार का धन्यवाद भी किया। वहीं इन मजदूरो के लिए भाजपा के नेताओं ने भी भोजन पानी की व्यवस्थाए की।

मजदूरो को वापस अपने अपने जिलो तक पहुंचाने के लिए पुरा अलीराजपुर जिला प्रशासन लगा हुआ है। एसपी विपुल श्रीवास्तव ने बताया कि 6 बसो से पहले करीब 150 मजदूरो आए है ।मप्र बार्डर तक अब इन लोगो का यही पर जाॅच हो रही है जिसके बाद इन मजदूरो को अपने अपने जिलो के लिए रवाना किए जाएगें। वही एसपी ने बताया की 26 तारीक से संभावित है कि ओर ज्यादा मजदूर जो गुजरात में फसे है वे भी आएगे।