कांग्रेस नेता का आरोप’ “भ्रष्टाचार का भूरिया कनेक्शन”, सीबीआई जांच की मांग

झाबुआ, डेस्क रिपोर्ट। अलीराजपुर जिले के जोबट से कांग्रेस प्रत्याशी रहे वरिष्ठ नेता महेश पटेल ने पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया पर संगीन आरोप लगाया है। उनका कहना है कि झाबुआ रतलाम संसदीय क्षेत्र के बीजेपी सांसद जी एस डामोर जिस 600 करोड़ रुपए के घोटाले के आरोपी हैं, कांतिलाल भूरिया भी उसमें शामिल है। पटेल ने इस मामले की सीबीआई जांच की मांग की है।

अपने पिता और भाई की समृद्धि राजनीतिक विरासत के बावजूद जोबट से विधानसभा चुनाव हारे महेश पटेल की खीज इन दिनों केंद्रीय मंत्री रहे कांग्रेस विधायक कांतिलाल भूरिया पर जमकर निकल रही है। पटेल पहले भी चुनाव में हार का कारण कांतिलाल भूरिया और उनके बेटे विक्रांत द्वारा की गई भितरघात को बताते रहे हैं। इसके जवाब में भूरिया ने महेश पटेल को डकैत, शराबी और दलाल तक कह दिया था। अब महेश पटेल ने प्रेस कांफ्रेंस करके कांतिलाल भूरिया पर भ्रष्टाचार का गंभीर आरोप लगाया है। दरअसल झाबुआ अलीराजपुर क्षेत्र में 2005-2006 मे फ्लोरोसिस रोग को मिटाने के लिए पीएचई विभाग द्वारा शुद्ध पेयजल की 600 करोड़ रुपए की योजना में घोटाले को लेकर भाजपा सांसद जी एस डामोर पर अलीराजपुर की एक कोर्ट ने मामला दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

यह भी पढ़ें…अधिकारियों से गुहार लगाकर थक चुके कालोनीवासियों ने लिया अनूठा फैसला, जारी किया वीडियो

महेश पटेल का कहना है कि जिस समय यह घोटाला हुआ, उस समय सांसद कांतिलाल भूरिया थे और इस घोटाले की जानकारी उन्हें न हो, ऐसा हो ही नहीं सकता। महेश पटेल का कहना है कि भूरिया उस समय केंद्रीय मंत्री भी थे और उनके नजदीकी शांतिलाल पडियार पीएचई के ठेके लेते थे। फ्लोरोसिस प्रोजेक्ट के जो हैंडपंप खुदे हैं, वह काम भी शांतिलाल पडियार ने किया है। पटेल का आरोप है कि उस समय झाबुआ और अलीराजपुर संयुक्त जिला था और फ्लोरोसिस प्रोजेक्ट के लिए इलाज अलीराजपुर को बनाया गया था। पटेल ने साफ कहा है कि इस मामले में भूरिया की संलिप्तता साफ तौर पर जाहिर होती है और इस पूरे मामले की सीबीआई के माध्यम से जांच होनी चाहिए।