अलीराजपुर : लगातार दूसरे दिन भी बारिश और आंधी ने ढाया कहर, मकानों की उड़ी चद्दरें, तो कई ढह गए

अलीराजपुर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार दूसरे दिन भी आंधी तूफान ने कई मकानों नुकसान पहुंचाया।

अलीराजपुर, यतेन्द्र सिंह सोलंकी। जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार दूसरे दिन भी बारिश और आंधी ने कहर बरपाया। शुक्रवार को क्षेत्र के ग्राम बोकड़िया, आगलगोटा, रिछवी और मोरधी सहित अन्य कुछ गांवों में आंधी तूफान के कारण ग्रामीणों के मकानों की चद्दर उड़ गई और मकान कई क्षतिग्रस्त हो गए। शनिवार को विधायक मुकेश पटेल (MLA Mukesh Patel) ने प्रभावित गांवों का दौरा कर ग्रामीणों को हुए नुकसान की जानकारी ली। इस दौरान युवा कांग्रेस नेता पुष्पराज पटेल भी मौजूद थे।

यह भी पढ़ें:-विश्व पर्यावरण दिवस: पौधे रोपकर ली पेड़ों और प्रकृति के संरक्षण की शपथ

विधायक मुकेश पटेल ने प्रशासन को पत्र लिखकर पिछले दो तीन दिनों में विधानसभा क्षेत्र में आंधी, तूफान और बारिश के कहर से ग्रामीणों परिवारों को हुए नुकसान की रिपोर्ट मांगी है। विधायक पटेल ने कहा कि पीड़ित परिवारों को हरसंभव मदद मुहैया कराई जाएगी। क्षेत्र के विभिन्न ग्रामों में हुए नुकसान का प्रशासन निष्पक्ष तरीके से आंकलन कर पीड़ित परिवारों को नियमानुसार आर्थिक सहायता उपलब्ध करवाई जाए। यदि प्रशासन ने इस मामले में लापरवाही या कोताही बरती तो कड़ा विरोध दर्ज करवाया जाएगा।

इन ग्रामीणों का हुआ नुकसान

विधायक मुकेश पटेल ने बताया कि ग्राम बोकड़िया में पारसिंह पिता चरका, दुरसिंह जामा, भुदरिया ढेडु, रमेश सनिया, समदु टुटिया, इडा जगलिया, आगलगोटा में भुवान सुमला और मोरधी में जगलिया दुरसिंह के मकानों को नुकसान पहुंचा है। इसके अलावा भी अन्य स्थानों पर आंधी तूफान से नुकसान की आंशका है।

गुरूवार को भी तबाही

जिले के अलीराजपुर सोरवा-कटठीवाड़ा क्षेत्र के ग्रामीण क्षेत्रों में गुरूवार रात्रि में भी आंधी तूफान ने कई मकानों को भारी नुकसान पहुंचाया था। सबसे अधिक नुकसान बड़दला और दरखड़ गांव में हुआ। यहां कई मकान ढह गए और पेड उखड़ गए थे। विधायक पटेल ने बताया कि गुरूवार को क्षेत्र के ग्राम दरखड़ और बड़दला में आंधी तूफान से भारी नुकसान हुआ है। कई मकान पूरी तरह ढह गए और कई मकानों को भारी क्षति पहुंची है। इसके अलावा क्षेत्र के ग्राम कियारा, रोडधू, वाकनेरी, जामला, मेहणी, सुमनियावाट, राक्सला, बडी वेगलगांव, छोटी वेगलगांव, सुखी बावडी में कई मकानों को पतरे, कवेलू उड़ गए और दीवारे भी गिर गई थी।