IIT-NEET की परीक्षाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को किया गया सम्मानित

कार्यक्रम में सामान्य प्रेक्षक टीएस राजसेकर ने कहा कि सीखने और सुनने के आचरण को अपने व्यक्तित्व का अभिन्न अंग बनाएँ, वहीं कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने कहा कि विद्यार्थी जीवन का नया पड़ाव है कॉलेज का जीवन, शिक्षा के साथ सर्वांगीण विकास को भी दें तवज्जो।

neet qualified students honored by anuppur collector

अनूपपुर, वेद शर्मा। आईआईटी एवं नीट (IIT-NEET) की प्रतियोगी परीक्षाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले अनूपपुर ज़िले के मेधावी विद्यार्थियों, उनके मार्गदर्शकों एवं परिवार जनो को आज कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर द्वारा आधिकारिक आवास में बुलाकर प्रशस्ति पत्र प्रदान किया गया एवं भविष्य के सम्बंध में मार्गदर्शन प्रदान किया गया। इस दौरान विधानसभा उपनिर्वाचन हेतु नियुक्त सामान्य प्रेक्षक टीएस राजसेकर द्वारा भी अपने व्यस्त कार्यक्रम से समय निकालकर मेधावी विद्यार्थियों को मार्गदर्शन प्रदान किया गया।

टीएस राजसेकर ने विद्यार्थियों से संवाद करते हुए कहा कि अपने सीखने की वृत्ति को सदैव जीवित रखें। हमेशा सकारात्मक रहें और जहाँ कहीं भी अच्छे उदाहरण मिलें उनकी अच्छी आदतों को जीवन में अपनाएँ। आपने कहा भविष्य में विकास हेतु एवं विभिन्न समस्याओं के निदान हेतु यह आचरण सदैव सहायक होगा। श्री राजसेकर ने कहा अनूपपुर जैसे छोटे से ज़िले में प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु ज़िला प्रशासन द्वारा किया गया प्रयास सराहनीय है। ज़िले के विद्यार्थियों को प्राप्त सफलता निश्चित रूप से क्षेत्र में शैक्षणिक उपलब्धियों को गति प्रदान करने में सहायक होगी। आपने सभी सफल विद्यार्थियों को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएँ दी हैं।

कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर ने सर्वप्रथम सफल विद्यार्थियों एवं उनके परिजनों को बधाई एवं शुभकामनाएँ दी। आपने सभी विद्यार्थियों को आईआईटी (IIT) के जीवन, ब्रांच का चयन, भविष्य की चुनौतियों एवं अवसरों के सम्बंध में विस्तार से जानकारी साझा की एवं विद्यार्थियों की जिज्ञासाओं का समाधान किया। श्री ठाकुर स्वयं भी आईआईटी (IIT) कानपुर (kanpur) से बीटेक हैं, इस दौरान उनके द्वारा अपने जीवन के संघर्ष एवं अनुभव भी विद्यार्थियों से साझा किया गया।

श्री ठाकुर ने कहा विद्यालयों का विद्यार्थी जीवन एवं कॉलेज का विद्यार्थी जीवन थोड़ा भिन्न है आपने कहा शिक्षा के साथ-साथ कॉलेज जीवन का प्रयोग सर्वांगीण विकास में भी करें। कलेक्टर श्री ठाकुर द्वारा इस दौरान विशेष रूप से प्राचार्य जेएनवी अमरकंटक कविता सिंह एवं संचालक साइंस सेंटर शिवेंद्र प्रताप सिंह की सराहना की गयी। उल्लेखनीय है कि ज़िले से प्रतियोगी परीक्षाओं में सफल विद्यार्थियों में मुख्य रूप से जेएनवी अमरकंटक के छात्रों का दबदबा रहा जिन्हें विगत सत्र में साइंस सेंटर द्वारा विशेष मार्गदर्शन प्रदान किया गया था। समारोह में उपस्थित एसडीएम पुष्पराजगढ़ अभिषेक चौधरी (आईएएस) द्वारा जो स्वयं आईआईटी दिल्ली से शिक्षा प्राप्त कर चुके हैं, के द्वारा भी विद्यार्थियों को मार्गदर्शन प्रदान किया गया।

ज़िले में मेडिकल/ इंजीनियरिंग प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु संचालित निःशुल्क कोचिंग क्लास के संचालक शिवेंद्र प्रताप सिंह जो स्वयं भी आईआईटी कानपुर से स्नातक हैं, के द्वारा बच्चों को मार्गदर्शन प्रदान किया गया। आपने कहा बच्चों की सफलता से अन्य बच्चों में भी ऊर्जा एवं आत्मविश्वास को संचार होता है जो सफल होने की सम्भावनाओं आगे बढ़ाता है। आपने आशा की है कि आगामी वर्ष में सफल बच्चों की संख्या में और सुधार होगा।

अनूपपुर में प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु किया गया नवाचार निःसंदेह मेधावी किंतु आर्थिक रूप से कमजोर विद्यार्थियों हेतु प्रगतिपथ की संजीवनी है।चयनित विद्यार्थियों द्वारा एक स्वर में यह बात कही गयी कि कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर के मार्गदर्शन में संचालित निःशुल्क कोचिंग क्लास साइंस सेंटर द्वारा उन्हें प्राप्त सक्रिय मार्गदर्शन, माता पिता एवं गुरुजनों के आशीर्वाद सहित उनकी सफलता का मूल आधार रहा।

आईआईटी एडवांस में 4300 रैंक प्राप्त करने वाले अनमोल श्रीवास्तव का कहना था कि हालाँकि उन्होंने कोटा से भी पढ़ाई की है परंतु कोरोना संक्रमण काल में साइंस सेंटर ही उनकी सफलता की राह का पथप्रदर्शक बना। नीट परीक्षा में 14157 रैंक प्राप्त करने वाले हिमांशु का कहना था कि अनूपपुर ज़िले में प्रतियोगी परीक्षाओं हेतु इस स्तर का मार्गदर्शन निः संदेह विद्यार्थियों के लिए संजीवनी है। नीट परीक्षा में 5260 रैंक प्राप्त करने वाली अनूशा राजानी ने कहा कोरोना काल में ज़िले में संचालित निः शुल्क कोचिंग संस्थान का मार्गदर्शन सफलता में बहुत सहायक रहा।

आईआईटी एडवांस परीक्षा में 23520 रैंक प्राप्त करने वाली आस्था राजानी का कहना है कि उन्होंने अनूपपुर में रहकर ही तैयारी की एवं ज़िले में संचालित निःशुल्क कोचिंग संस्थान से प्राप्त सक्रिय मार्गदर्शन इस सफलता में सहायक रहा। आईआईटी जेईई एडवांस परीक्षा में 6317 रैंक प्राप्त करने वाले हर्षित सिंघई का कहना था कि उन्होंने कोटा में प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी की एवं ज़िले में भी साइंस सेंटर से मार्गदर्शन प्राप्त किया। आपने कहा कलेक्टर श्री ठाकुर द्वारा शिक्षा के क्षेत्र में किया गया यह प्रयास निःसंदेह प्रतिष्ठित मेडिकल एवं इंजीनियरिंग संस्थानो में अनूपपुर के विद्यार्थियों की उपस्थिति को बढ़ाने में सहायक होगा।

IIT-NEET परीक्षा में सफलता प्राप्त करने वाले मेधावी विद्यार्थियों को प्रदान किया गया प्रशस्ति पत्र

अनूपपुर ज़िले के 15 विद्यार्थियों रितिक मिश्रा, रितिक जैन, आस्था राजानी, मीना सिंह, हिमांशु शाक्य, हेमराज सिंह, आसूप्रिया, सुजल पटेल, हर्ष जैन, हर्षित सिंघई, हिमांशु सिंघई, सुचित्रा कुशवाहा, अनमोल श्रीवास्तव, महेंद्र मरावी एवं अनूप सिंह ने आईआईटी की प्रतियोगी प्रवेश परीक्षा में एवं 9 विद्यार्थियों हिमांशु मिश्रा, संदीप सूर्यवंशी, अनूशा राजानी, अंकुर सिंह, नम्रता पटेल, प्रिया चौरसिया, भारती चंद्रवंशी, प्रिंस टोप्पोएवं प्रभात देवांगन को नीट की प्रतियोगी प्रवेश परीक्षा में उत्कृष्ट प्रदर्शन हेतु सामान्य प्रेक्षक टी॰एस॰ राजसेकर एवं कलेक्टर चंद्रमोहन ठाकुर द्वारा प्रशस्ति प्रदान कर सम्मानित किया गया।

इसके साथ ही बच्चों के भविष्य निर्माण के कार्य में दायित्वों के उत्कृष्ट निर्वहन हेतु साइंस सेंटर संचालक शिवेंद्र प्रताप सिंह, प्राचार्य जेएनवी अमरकंटक कविता सिंह, प्राचार्य शासकीय उ.मा. विद्यालय कोतमा अजय चौहान, प्राचार्य शासकीय उ.मा. विद्यालय परसवार अजय जैन एवं वरिष्ट अध्यापक कौशलेंद्र सिंह को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here