गुलाब के फूलों की बारिश से महका अशोकनगर, सिंधिया के स्वागत में उमड़ा शहर

सिंधिया के स्वागत के लिए शहर से 5 किलोमीटर दूर से स्वागत द्वार बनाये गए थे।

अशोकनगर, हितेंद्र बुधौलिया। करीब 17 वर्ष तक शिवपुरी- गुना-अशोकनगर क्षेत्र का लोकसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले भाजपा एक वरिष्ठ नेता, राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) केंद्रीय मंत्री बनने के बाद पहली बार अशोकनगर (Ashoknagar News) आये। अपने नेता के स्वागत में शहर ने पालक पावड़े बिछा दिए, स्वागत ऐसा कि इससे पहले किसी भी नेता का नहीं हुआ। 1000 से ज्यादा स्वागत द्वार बनाये गए, शहर के लोगों ने सिंधिया पर 20 क्विंटल से ज्यादा गुलाब के फूलों की बारिश (Flowers rain on Scindia) कर शहर को महका दिया।

केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस आत्मीय स्वागत को ऐतिहासिक स्वागत माना जा रहा है। अब से पहले शहर में किसी भी राजनेता का इस तरह का स्वागत नहीं हुआ। शहर की सीमा से 5 किलोमीटर पहले से स्वागत द्वार बनाये गये थे। इस दौरान सिंधिया ने यहां एक रोड शो किया एवं सभा को भी संबोधित किया। कार्यक्रम से एक दिन पहले आचार संहिता लग जाने से सरकारी योजनाओं के आयोजन नहीं हो पाए। सिंधिया के साथ प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी एवं पीएचई राज्य मंत्री ब्रजेन्द्र सिंह यादव भी मौजूद रहे।

ये भी पढ़ें – MP School: बढ़ते कोरोना केसों पर स्कूलों की बड़ी तैयारी, शुरू होगी नई व्यवस्था, ऐसे लगेगी कक्षाएं

भाजपा विधायक जजपाल सिंह जज्जी के नेतृव्व में केंद्रीय मंत्री सिंधिया के अशोकनगर आगमन से पहले अशोकनगर शहर को दुल्हन की तरह सजाया गया था। राजमाता चौराहे से कार्यक्रम स्थल तुलसी पार्क तक के सभी मार्गों में करीब 1000 से ज्यादा स्वागत द्वार बनाए गए थे। साथ ही इस दौरान सिंधिया पर करीब 20 किंवटल से ज्यादा गुलाब के फूलों की बरसात की गई। राजमाता चौराहा सुशील चौराहा एवं गांधी पार्क को विशेष रूप से सजाया गया था। भारतीय जनता पार्टी के तमाम नेताओं ने अलग-अलग स्थानों पर सिंधिया का स्वागत किया। सेन चौराहे से सिंधिया का रोड से शुरू हुआ । सिंधिया खुली जीप में सवार होकर लोगों का अभिवादन करते रहे। मंच पर क्षेत्रीय विधायक  जज्जी ने स्वागत भाषण में बताया कि कोरोना वायरस की भयावहता, बाढ़ के संकट एवं यूरिया की परेशानी के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने इस क्षेत्र की जो मदद की उसी को देखते हुए यहां के लोगों ने अपने नेता का आभार जताने ऐतिहासिक स्वागत किया।

ये भी पढ़ें – India Post Recruitment : इस राज्य ने निकाली भर्ती, खिलाड़ियों के लिए अच्छा मौका

मंच से बोलते हुए सिंधिया ने खुद को जनसेवक बताया और कहा कि उनका पद राजनीति का नहीं समाज सेवा का है। उन्होंने कहा कि वह बड़े सौभाग्यशाली हैं कि देश के लोकप्रिय नेता नरेंद्र मोदी के साथ उन्हें काम करने का मौका मिला ।जिनके नेतृत्व में देश ने दुनिया में सबसे ज्यादा 130 करोड़ टीके लगाने का रिकॉर्ड बनाया है। श्री सिंधिया ने कहा कि विपक्ष ने अक्सर टीके पर सवाल उठाये थे। साथ ही उन्होंने कहा कि कांग्रेस के समय टीका विदेश में बनता था और 15 साल बाद भारत में लगता था। इस दौरान सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ पर तंज कसते हुए कहा कि कोरोना संकट के समय उन्हें कोरोना वायरस पर मीटिंग करने का समय नहीं मिला मगर आइफा अवार्ड में भाग लेते रहे। इस दौरान सिंधिया ने बीते कुछ समय में इस क्षेत्र के लिए किए गए कामों के बारे में भी लोगों को बताया।