एक शताब्दी पुराने तालाब की छरार को पर्यटन स्थल बनाने की पहल

अशोकनगर| हितेंद्र बुधोलिया| बरसात में ओवर फ्लो होने के अमाही तालाब की छरार पर किसी मानव निर्मित जल प्रपात सी हो जाती है।जिसे देखने लोगो की काफी संख्या यहाँ पहुचती है।बीते कुछ सालों से लगातार यहाँ लोगो आवाजाही बढ़ रही है ।जिसको देखते हुये यहां सुरक्षा इंतजाम एवं सुविधायों को बढ़ाये जाने की जरूरत महसूस की जा रही थी।अशोकनगर के सामाजिक ग्रुप पछार क्लब ने इस मामले में पहल की है।पूर्व विधायक जजपाल सिंह जज्जी एवं नगर पालिका cmo के साथ ग्रुप के सदस्यों ने यहां किये जा सकने बालो बालो की रूपरेखा तैयार की है।नगरपालिका के इंजीनियर भानु कुशवाह ने यहां होने बाले कार्यो के लिये स्थल का निरीक्षण कर काम को समझा है।
उल्लेखनीय है जिला मुख्यालय से 9 किलोमीटर दूर स्थित अमाही तालाब ना केबल शहर को प्रतिदिन पानी पिलाता है बल्कि यह जिले की 100 साल से भी जायदा पुरानी सबसे जीवित विरासतों में से एक है।करीब 200 बीधा से जायदा क्षेत्रफल में फैले इस तालाब से लोगो का आत्मीय जुड़ाव है। पछार ग्रुप के सदस्यों ने बीते साल अमाही तालाब की छरार चलते समय एक कार्यक्रम किया था।उसी समय तय किया था ।इस स्थल को एक सुरक्षित एवं सुविधायुक्त पर्यटन केंद्र बनाए जाने पर काम किया जाएगा। इसी उद्देश्य से अमाही तालाब का आज निरीक्षण किया गया।नपा द्वारा इस पर कार्य करवाने के साथ पछार क्लब ने यहां सौंदर्य करण करवाने का जिम्मा उठाया है।
पूर्व विधायक जजपाल सिंह जज्जी ने बताया है की बीते कई सालों से शहर से बरसात में तालाव की छरार का लुप्त उठाने लोग पहुचने लगे है। इसलिए उनकी सुविधाओ को दृष्टिगत रखते हुए अमाही तालाब का सौंदर्यीकरण करवाया जाएगा जहां छरार को बेहतर बनाकर स्विमिंग पूल का आकार दिया जाएगा साथ ही छरार के आसपास खाली पड़ी जगह में पार्क बनाया जाएगा । इसके साथ ही उबड़-खाबड़ जगह को समतल बनाकर आरसीसी करवाई जाएगी। जिससे अमाही तलाव की सुंदरता बढ़ेगी साथ ही आने वाले लोगों को सुविधा तो मिलेंगी ।करीब 100 साल से जायदा पुराने इस तालाब पर अब लोगो की आवाजाही जायदा बढ़ने लगी है।इसलिय सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये जाने जरूरी है।ताकि यहां आने बाले पर्यटक किसी जोखिम में ना पड़े।इसलिय छरार के आसपास रैलिंग एवं अवरोधक लगाए जाने पर भी विचार किया गया जा।