अशोकनगर| ग्वालियर कमिश्नर एमबी ओझा दो दिवसीय प्रवास पर   शुक्रवार पहुंचे  उन्होंने शनिवार की सुबह कलेक्टर डॉक्टर मंजू शर्मा के साथ किला कोटी होटल पर पुरातत्व राजस्व और स्थानीय लोगों के साथ चंदेरी को और अधिक सुविधा युक्त और सुंदर बनाने के लिए चर्चा की गई  किला कोठी के ऊपर बना रेलवे टावर जिसका ऑफिस बंद हो गया है यहां के स्थापित्य एवं पुरातत्विक महत्व के स्थानों का भृमण किया एवं यहां की विश्व प्रसिद्ध चन्देरी साड़ी को बनाने की बारीकियों से रूबरू हुये।साथ ही चन्देरी में विकास की नई संभावनाओ पर भी  स्थानीय लोगो एवं अधिकारियों से बातचीत की।इस दौरान अशोकनगर कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा एवं दूसरे अधिकारी उनके साथ रहे स्थानीय विधायक गोपाल सिंह चौहान के साथ कमिश्नर ने चन्देरी के एतिहासिक महत्त्व के स्थलों का भ्रमण किया।

      विधायक श्री चौहान ने यहां  बने एक टावर को लेकर  सुझाव दिया कि उसे रेलवे विभाग से वापस लेकर लगभग 10 हेक्टेयर भूमि जो टावर के आसपास पड़ी हुई है उस पर फाइव स्टार होटल खोला जाए दिया । साथ ही शहर के तीन प्रमुख तालाब जिनमें धुबया तालाब ,लाल बावड़ी और पन बावड़ी तालाब को एक साथ मिलाकर  सुंदर झील बनाने की बात कही। इसके साथ ही बत्तीसी बावड़ी जो कि काफी सुंदर है लेकिन वहां तक पहुंच मार्ग ना होने के कारण पर्यटक नहीं पहुंच पाते हैं वहां तक  पहुंचने के लिए मार्ग बनाने का सुझाव दिया। साथ ही बाहर से आने वाले  विदेशी पर्यटकों को आवागमन की सुविधा हेतु ऐरोड्रम निर्माण कराने की बात कही जिससे पर्यटकों की संख्या में और अधिक इजाफा हो सके ।।   कमिश्नर द्वारा मीटिंग के उपरांत  कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा के साथ चंदेरी के  प्रमुख ऐतिहासिक मॉन्यूमेंटो का भ्रमण किया जिसमें नौखंडा महल ,बादल महल ,कोशक महल तथा हाईटेक म्यूजियम को भी देखा।

  ग्वालियर संभागायुक्त श्री ओझा ने कहा कि चंदेरी में टूरिज्म की बहुत संभावनाएं है। यह मध्य प्रदेश का बहुत बड़ा टूरिज्म बन सकता है। यहां बहुत अच्छे होटल नहीं है हवाई पट्टी नहीं है लेकिन जो प्राकृतिक सुंदरता है और ऐतिहासिक धरोहरें हैं इतनी सुन्दर जगह और कहीं नहीं है। हम इसके बारे में स्थानीय विधायक के  साथ बैठकर योजना बनाएंगे कि कैसे इसे डेवलप किया जा सकता है। हमारी पूरी कोशिश है कि शहर के लिए जो अधूरे कार्य है उन्हें शासन स्तर पर शीघ्र पूरा करवाएंगे और पहुंच मार्ग और रहने के लिए अच्छा होटल बन जाएगा तो   चंदेरी में पर्यटन की  और अधिक ब संभावनाएं बढ़ जाएंगी।

*चन्देरी साड़ी की बारीकियों को देखा* चन्देरी में बने हैंडलूम पार्क में कमिश्नर श्री ओझा ने साड़ी बना रहे बुनकरों से बातचीत की एवं चंदेरी में साड़ी में होने वाले महीन एवं बारिक ताना-बाना के काम को करीब से जाना। संभागायुक्त ने इस दौरान बुनकरों से साड़ी के बारे में जानकारी ली ।कि साड़ी को किस तरह बनाया जाता है ।उसमें धागों को कैसे पिरोया जाता है। साथ ही उन्होंने इस साड़ी की  खासियत के बारे में भी जाना ।संभाग आयुक्त ने बुनकरों को उनकी मेहनत का लाभ किस तरह मिलता है इसको लेकर भी अधिकारियों से बात की। कमिश्नर ने बुनकरों का उत्साह बढ़ाने के लिये यहाँ बनी कुछ साड़ियों को भी खरीदा ।