एमपी में भरने वाले सबसे भव्य मेले की तैयारियां लगभग पूर्ण, वरिष्ठ अधिकारियों ने लिया जायजा

अशोकनगर ,मुंगावली।अलीम डायर।

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी अशोकनगर जिले की करीला धाम मां जानकी मंदिर पर रंग पांचे 14 मार्च से तीन दिवसीय भव्य मेले का आयोजन किया जा रहा है इस मेले में देश और दुनिया से लाखों श्रद्धालु मां जानकी के दर्शन करने और मनोकामना पूरी करवाने आते हैं इसके एवज में यहां राई नृत्य भी कराया जाता है। करीला धाम मेले की तैयारियां लगभग पूर्ण हो चुकी है इसी संबंध में संबंधित वरिष्ठ अधिकारियों एवं जिम्मेदारों ने बैठक कर संपूर्ण व्यवस्थाओं का जायजा लिया।

आगामी 14 मार्च 2020 रंगपंचमी पर करीला धाम माता जानकी मंदिर पर आयोजित होने वाले तीन दिवसीय मेला में सभी नोडल अधिकारी पूर्ण जिम्मेदारी एवं ईमानदारी के साथ श्रद्धापूर्वक सौपें गए दायित्वों का निर्वहन करें। इस आशय के निर्देश कमिश्नर ग्वालियर संभाग एम. बी. ओझा द्वारा मंगलवार को करीला रेस्ट हाउस में आयोजित करीला मेला की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं के संबंध में आयोजित बैठक के दौरान दिए।

बैठक में कमिश्नर ओझा ने निर्देश दिए कि करीला मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की परेशानी न हो ऐसे पुख्ता इंतजाम किए जाएं। उन्होंने कहा कि करीला मेले में स्वच्छता का विशेष ध्यान रखा जाए। साथ ही पेयजल के लिए पर्याप्त संसाधन जुटाए जाएं। जिससे पेयजल की किसी भी प्रकार की समस्या न हो। मेले में अस्थाई टॉयलेट बनाने के निर्देश सीईओ जनपद मुंगावली को दिए। करीला पहुंचने बाले मार्गों पर ट्रैफिक व्यवस्था को सुगम बनाया जाए। जिससे आने जाने में कोई परेशानी न हो। बमोरी शाला मार्ग से अतिक्रमण हटाया जाए। करीला मेला परिसर क्षेत्र में पर्याप्त लाइट की व्यवस्था कराई जाए। साथ ही इमरजेंसी के लिए जनरेटर की व्यवस्था की जाए।

कलेक्टर डॉ मंजू शर्मा ने बताया कि करीला मेला की तैयारी समय से पूर्ण कर ली जाएगी। करीला मेला पहुंचने के लिए तीन मार्ग रहेंगे। बंगला चौराहे से बामोरी होते हुए करीला, बेलई मार्ग से करीला वीआईपी मार्ग मोला डेम से रहेगा। मेले में तीन-चार किलोमीटर दूर वाहनों की कमिश्नर एवं एडीजी ने लिया करीला मेला की तैयारियों व्यवस्था रहेगी। मेले में 230 टैंकर पानी व्यवस्था के लिए रहेंगे। मेले में लाइट एवं जेनरेटर की समुचित व्यवस्था की गई है।

यातायात व्यवस्था को सुगम बनाने के लिए 35 ड्रॉप गेट बनाए गए हैं। मेले परिसर में निगरानी के लिए 45 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। साथ ही 2 प्रोजेक्टर लगाए जाएंगे। मेले में श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए दो एलईडी मंदिर के बाहर लगाई जाएंगी। एलईडी के माध्यम से भी श्रद्धालु दर्शन कर सकते हैं। स्वास्थ्य सेवा हेतु डॉक्टर सहित कर्मचारी की ड्यूटी लगाई गई है। सभी पर्याप्त आवश्यक दवाएं उपलब्ध रहेगी। मेले में 10 एंबुलेंस की व्यवस्था रहेगी। मेला परिसर में अनाउंसमेंट करने के लिए लाउडस्पीकर एवं खोया-पाया केंद्र बनाया जाएगा। मंदिर के अंदर नारियल अगरबत्ती झंडा प्रतिबंधित रहेगा। जिसके लिए 80 महिला बाल विकास के अधिकारी कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई जाएगी।

व्यवस्थाओं का किया निरीक्षण

कमिश्नर श्री एम बी ओझा तथा एडीजी श्री राजा बाबू सिंह सहित अधिकारियों द्वारा करीला मेला की तैयारियों एवं व्यवस्थाओं का जायजा लिया गया। उन्होंने भ्रमण कर माता जानकी परिक्रमा मार्ग, दर्शन स्थल, प्रवेश एवं निकास द्वार का निरीक्षण कर आवश्यक निर्देश दिए।

बैठक में एडीजी ग्वालियर संभाग राजा बाबू सिंह, कलेक्टर डॉ.मंजू शर्मा, पुलिस अधीक्षक रघुवंश भदौरिया, विदिशा कलेक्‍टर कौशलेन्‍द्र विक्रम सिंह,पुलिस अधीक्षक विनायक वर्मा, अपर कलेक्टर अनुज रोहतगी, जिला अधिकारी एवं मेला हेतु नियुक्त नोडल अधिकारी उपस्थित थे।