अशोकनगर| रेलवे स्टेशन परिसर के आधुनिकीकरण के कार्यक्रम में जमकर हंगामा हुआ। पहले तो अव्यवस्थाओं को लेकर पत्रकारो ने इस आयोजन का बहिष्कार किया । इसके बाद विधायक जजपाल सिंह जज्जी ने भी इस कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया। विधायक ने इसे विशेषाधिकार हनन का मामला बताते हुये इसकी शिकायत करने की बात कही है।

यह कार्यक्रम शुरू से ही लोगों में चर्चा का विषय था। रेलवे के आधुनिकीकरण के इस काम का श्रेय भाजपा के लोग सांसद डॉ केपी यादव को दे रहे थे। तो कांग्रेसी लोग इस काम के लिए पूर्व सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया की मेहनत बता रहे थे। रेल विभाग द्वारा इस कार्यक्रम में सिर्फ सांसद श्री यादव को बोलने का अवसर दिया एवं विधायक जयपाल सिंह जज्जी जो इस आयोजन में आमंत्रित अतिथि थे उन्हें बोलने का मौका नही दिया।  रेलवे विभाग द्वारा मंच पर सिर्फ सांसद का उद्बोधन कराये जाने से खफा होकर विधायक श्री जज्जी ने कार्यक्रम का बहिष्कार कर दिया एवं अपने समर्थकों के साथ कार्यक्रम स्थल से बाहर चले गये।

मीडिया से चर्चा करते हुए विधायक श्री जज्जी ने कहा कि सांसद केपी यादव के दवाब में रेलवे के अधिकारियों ने जानबूझकर मंच से बोलने का मौका नहीं दिया । उन्होंने आरोप लगाया कि सांसद को डर था कि अगर विधायक को बोलने दिया तो जनता को पता चल जाता कि रेलवे का यह कार्य उनके नही पूर्व सांसद सिंधिया के प्रयासों से हुआ है। विधायक ने आरोप लगाया कि सामान्य प्रोटोकाल एवं शिष्टाचार के तहत मंच पर आमंत्रित अतिथियों का उद्बोधन कराया जाता है । मगर यहा ऐसा नही करके अधिकारियों ने विधायक के विशेषाधिकारों का हनन किया है। जिसकी शिकायत की जाएगी|

डीआरएम ने मीडिया को बताया कि कार्यक्रमों में सिर्फ विशेष अतिथि कोई ही बुलाया जाता है विधायक के संबोधन कराने को लेकर कोई प्रोटोकॉल नहीं होता ।  जबकि इस मुद्दे पर सांसद डॉ केपी यादव ने गोलमाल जवाब देकर विधायक के  इस आरोप टालने को कोशिश की की यह अब उनके कहने पर हुआ।उन्होंने कहा में यही का रहने वाला हूँ। आप खुद समझ सकते है कि में यह कर सकता हूँ क्या।